नहीं रहे मशहूर शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ उत्पल कान्त, दिल्ली में ली अंतिम सांस

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्य व देश के मशहूर सीनियर शिशु रोग विशेषज्ञ (Pediatrician) डॉ उत्पल कान्त ने गुरुवार को गुरुग्राम में अंतिम सांस ली. वे 71 वर्ष के थे. पिछले कई दिनों से वे गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल (Medanta Hospital) में भर्ती थे.

डॉ उत्पल कान्त लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थे तथा मेदांता अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था. उनके निधन की खबर से शोक की लहर दौड़ गई है. शुक्रवार दोपहर उनका पार्थिव शरीर पटना लाया जाएगा. उनका अंतिम संस्कार पटना या उनके पैतृक गांव अमहरा में होने की संभावना है.

वैसे तो डॉ. उत्पल कांत बिहार-झारखंड के जाने-माने शिशु रोग विशेषज्ञों में से एक थे लेकिन उनकी गिनती देश के बड़े शिशु रोग विशेषज्ञों में भी होती थी. काबिलियत इतनी कि बच्चों की नब्ज को देखकर ही उन्हें बीमारी का पता चल जाता था.

डॉ उत्पल कांत मूलरूप से राजधानी से सटे बिहटा थाना क्षेत्र के अमहारा के मूल निवासी थे. उनके पिता कामता प्रसाद सिंह एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे. डॉ उत्पल कान्त का लगाव बिक्रम इलाके से बहुत अधिक था. उनके बेटे सिद्धार्थ सिंह इस क्षेत्र के कांग्रेस पार्टी से वर्तमान विधायक भी हैं. राजधानी पटना के राजेंद्रनगर रोड नंबर 8 में उनका मकान है.

ये खबर आपने पढ़ी क्या‘कैश फॉर जस्टिस’ मामले में फंसी सिर्फ छोटी मछलियां !

डॉ. उत्पल कांत ने पटना के PMCH से MBBS की पढ़ाई की थी. इसके बाद वे लंदन जाकर MD, PHD और FRCP की डिग्री हासिल की. फिर उन्होंने अमेरिका से FIAP और FCCP की डिग्री ली. वापस देश लौटकर वे पटना के NMCH में प्रोफेसर बने लेकिन बाद में वीआरएस लेकर पटना में ही प्रैक्टिस करने लगे थे.

मुख्यमंत्री ने जताया शोक

नीतीश ने प्रसिद्ध शिशु रोग विषेषज्ञ डॉ उत्पल कांत के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने अपने शोक संदेश में कहा कि डॉ उत्पल कांत प्रख्यात शिशु रोग विशेषज्ञ थे तथा उनके साथ हमारा व्यक्तिगत संबंध था. उनके निधन के समाचार से मुझे काफी दुख पहुंचा है. उन्होंने कहा कि डॉ उत्पल कान्त का निधन चिकित्सकीय क्षेत्र के लिए एक अपूरणीय क्षति है.

ये खबर आपने पढ़ी क्यादी बिहार नाउ की खबर का असर, सफाई कर्मियों की हड़ताल हुई खत्म

मुख्यमंत्री ने दिवगंत आत्मा की चिर शान्ति तथा उनके परिजनों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है.

error: Content is protected !!