शिक्षा विरोधी है नीतीश सरकार – मनोज मंज़िल

कोइलवर / भोजपुर (TBN – आमोद कुमार की रिपोर्ट)| नीतीश सरकार न केवल शिक्षा विरोधी है बल्कि धोखा देने वाली सरकार भी है. यह बात अगियांव के विधायक मनोज मंजिल ने शुक्रवार को कहा.

विधायक ने कहा कि कोइलवर में हाईस्कूल का भवन गिराकर हाईवे बना दिया गया था. इसके खिलाफ आइसा-इनौस के नेतृत्व में ग्रामीणों ने हाईस्कूल के भवन के निर्माण का आंदोलन शुरू किया था. हमारे साथ माले के युवा नेता राजू यादव भी इस आंदोलन में शामिल हुए थे. सैंकड़ों की तादाद में छात्र-छात्राओं व अभिभावकों ने सड़क पर ही स्कूल लगा दिया था.

आंदोलन के दबाव में जिला प्रशासन ने हाईस्कूल का भवन निर्माण करवाने अथवा स्कूल की वैकल्पिक व्यवस्था का आश्वासन दिया था. इसमें जिला प्रशासन की ओर से एडीएम, एसडीएम व डीईओ शामिल थे. प्रशासन के लिखित आश्वासन के बाद आंदोलन वापस ले लिया गया था.

लेकिन बाद में जिला प्रशासन ने माले विधायक मनोज मंजिल, युवा नेता राजू यादव सहित 50 छात्र-छात्राओं व अभिभावकों पर मुकदमा थोप दिया. यहां तक कि सड़क पर स्कूल लगाने के लिए जिस टेंट का उपयोग किया गया था, उस टेंट वाले को भी गिरफ्तार कर लिया गया.

शुक्रवार को इसके खिलाफ एक बार फिर सैंकड़ों की संख्या में छात्र-छात्राओं का जुटान हुआ और उन्होंने प्रशासन की तानाशाही व धोखेबाजी के खिलाफ लगभग 7 घण्टे से कोइलवर थाने का घेराव किया. आंदोलनकारी इन फर्जी मुकदमों को वापस लेने की मांग कर रहे थे.

इस मौके पर इनौस राष्ट्रीय अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और शिक्षा मंत्री विजय नारायण चौधरी से पूछा कि क्या स्कूल की मांग करना भी आज की तारीख में अपराध हो गया है? यह सरकार बिहार में शिक्षा के विकास की डींगें मारते नहीं अघाती थी, लेकिन वास्तविकता कुछ और ही है. स्कूल के भवन या तो ध्वस्त पड़े हैं अथवा सरकार ही उन्हें गिरा दे रही है. बिहार में विगत 16 वर्षों में शिक्षा की हालत बद से बदतर होती गई, इसके लिए सिर्फ और सिर्फ भाजपा-जदयू की सरकार जिम्मेवार है.

Also Read| बाढ़: एसडीएम ने पढ़ाया प्रिएंबल और मौलिक कर्तव्य का पाठ

घेराव के दबाव में थाना ने 1 सितम्बर से ही गिरफ्तार टेंट कर्मी को छोड़ दिया लेकिन अभी भी उसके गाड़ी सहित सारे जब्त सामान नहीं छोड़ा है.

थाना का घेराव कर रहे विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने “सभी आंदोलनकारियों पर लादे गए फर्जी मुकदमों को वापस लो”; “स्कूल भवन के अविलंब निर्माण की मांग पूरा करो”; “कोइलवर थाना प्रभारी बाहर आओ, बाहर आकर बात करो”; “भोजपुर डीएम मुर्दाबाद” – आदि आक्रोशपूर्ण नारे लगाए. आक्रोशित छात्राओं ने सुबह से बिना कुछ खाये नारे लगा रही थी और पूरे जिला प्रशासन को शर्म करो आदि नारे लगा रहीं थी.

थाना घेराव में आइसा नेता विशाल कुमार, माले नेता भोला यादव, संजीत यादव, शिक्षक हिमांशु पाठक, छात्रा अंशु कुमारी, खुशी, रिपु, ऋतु, नीतू, कोमल, अनन्या, छोटी, सीमा, विद्यारानी, अंजली, अमृता, मुन्नी, पूजा, काजल, बबली, सिधु पांडेय, अविनाश, जितेंद्र राय, शिवनारायण राय आदि शामिल थे.