अर्जुन और कृष्ण की भूमिका में दिखे नीतीश और ललन सिंह

दलसिंहसराय / समस्तीपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार की राजनीति में अब महाभारत के पात्र पोस्टर पर उतर आए हैं. इस राजनीतिक बिहारी महाभारत में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) अर्जुन (Arjuna) की भूमिका में हैं तो राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह (Lalan Singh) श्रीकृष्ण (Sri Krishna) की. उपेंद्र कुशवाहा अभिमन्यु (Abhimanyu) बन गए हैं तो पीएम मोदी (PM Narendra Modi) को धृतराष्ट्र (Dhritrashtra) बना दिया गया है.

जी हां, हम बात कर रहे हैं जदयू द्वारा “युवा मांगे रोजगार कार्यक्रम” के आयोजन के बारे में. इस आयोजन के माध्यम से युवा डाक पत्र के माध्यम से केंद्र की मोदी सरकार से रोजगार मांगने का काम करेंगे.

इस आयोजन को एक रथ के माध्यम से शुरू किया गया है जिसे सोमवार को समस्तीपुर जिले के दलसिंहसराय (Dalsinghsarai of Samastipur district) से जेडीयू संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (JDU Parliamentary Board National President Upendra Kushwaha) के द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया. इस आयोजन का नाम “पत्र संग्रह रथ यात्रा” (Patra Sangrah Rath Yatra) रखा गया है.

इस रथ में महाभारत की तरह शंखनाद करने का ऐलान किया गया है, जिसमें महाभारत के योद्धाओं को जदयू के योद्धाओं से जोड़ा गया है. इस रथ में लगे पोस्टर में सीएम नीतीश अर्जुन की भूमिका में तो ललन सिंह भगवान श्रीकृष्ण की भूमिका में नजर आ रहे हैं. साथ में उपेंद्र कुशवाहा अभिमन्यु की भूमिका में दिख रहें हैं जिन्हें बीजेपी का चक्रव्यूह तोड़ते दिखाया गया है.

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कौरवों (Kauravas) का एक पात्र बना दिया गया है. रथ के माध्यम से रोजगार के लिए युवाओं को प्रेरित कर डाक पत्र के माध्यम केंद्र की मोदी सरकार से और रोजगार मांगने का काम करेंगे.

यह भी पढ़ें| मुगालते में है महागबंधन, भाजपा अपनी रणनीति को दे रहा स्वरुप

दरअसल “युवा मांगे रोजगार कार्यक्रम” के तहत समस्तीपुर पहुंचे जेडीयू संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि मोदी की सरकार लगातार रोजगार को खत्म कर रही है. सभी सरकारी संस्थाओं का निजीकरण कर रही है. इससे रोजगार और खत्म हो जाएगा.

कुशवाहा ने कहा कि मोदी सरकार ने जो जनता से वादा किया है, उन वादों को सरकार पूरा करें वरना 2024 के लोकसभा चुनाव में उनकी हार तय है. बिहार की सरकार 10 लाख लोगों को सरकारी नौकरी के साथ रोजगार पर काम कर रही है. साथ ही, उन्होंने कहा कि जल्दी ही बिहार में अधिक-से-अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा, जिसकी शुरुआत सीएम नीतीश कुमार अब कर चुके हैं.

बताते चलें कि महागठबंधन सरकार में शामिल आरजेडी के पास भी पहले से ही अर्जुन और कृष्ण है. दरअसल, लालू यादव के बड़े पुत्र तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) अपने आप को कृष्ण और अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को अर्जुन बताते रहे हैं. तेजस्वी को सत्ता के शीर्ष पर पहुंचाने के लिए तेजप्रताप कहते रहे हैं कि हर वह दुश्मन से लड़ सकते हैं इसलिए वह तेजस्वी के अर्जुन हैं. वो तेजस्वी के सारथी हैं. बता दें, राजधानी पटना की सड़कों पर तेजस्वी यादव और तेज प्रताप की कृष्ण-अर्जुन वाले पोस्टर खूब छाए रहते हैं.