पटना एयरपोर्ट पर नया नेविगेशन और लैंडिंग सिस्टम जल्द ही

पटना (TBN – The Bihar Now desk)| पटना स्थित जयप्रकाश नारायण अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के पुराने नेविगेशन और लैंडिंग सिस्टम को इसी साल मार्च तक बदल कर नया लगा दिया जाएगा.

एयरपोर्ट के निदेशक बीसीएच नेगी ने बताया कि राज्य सरकार ने हाल ही में हवाई अड्डे की चारदीवारी के दक्षिणी तरफ बाहर स्थित 16.5 एकड़ भूमि पर नए DVOR (डॉपलर वेरी हाई फ्रीक्वेंसी ओमनी रेंज) और आईसोलेशन बे (Isolation Bay) के निर्माण कार्य शुरू करने के लिए एएआई (AAI) को काम करने की अनुमति दी है.

DVOR उपकरण की खासियत है कि यह पायलटों को लगभग 600 किमी तक के नेविगेशनल संकेतों को विकीर्ण करके हवाई अड्डे तक पहुंचने के लिए मार्गदर्शन करता है. इसके अतिरिक्त, डीवीओआर पायलटों को लैंडिंग प्रक्रिया के दौरान भी मदद करता है.

नेगी ने बताया कि डीवीओआर के निर्माण और स्थापना का काम 31 मार्च 2021 तक पूरा होने की संभावना है. उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिकल और सिविल इंजीनियरिंग संबंधित कार्यों में लगभग 2.36 करोड़ रु तथा नए DVOR उपकरण में लगभग 3.0 करोड़ रु की लागत आएगी.

इंस्ट्रूमेंट लैंडिंग सिस्टम भी बदला जाएगा

उन्होंने बताया कि नए DVOR के अलावा, मौजूदा इंस्ट्रूमेंट लैंडिंग सिस्टम (ILS) को भी बदल कर नया लगाया जाएगा. नए आईएलएस (ILS) को बदलने का काम कुछ ही महीनों में शुरू होने की संभावना है. नए ILS उपकरण की लागत लगभग 4.0 करोड़ है. आईएलएस को बदलने में इलेक्ट्रिकल और सिविल इंजीनियरिंग से संबंधित कार्यों में कुल लगभग 4.36 करोड़ रु की लागत आएगी.

यह भी पढ़ेंविपक्षी नेता राज्यपाल से मिले, रुपेश हत्याकांड की सीबीआई जांच की मांग की

इसके अलावा, अलगाव बे (Isolation Bay), जो कि बम के खतरे को देखते हुए विमान की पार्किंग के लिए उपयोग किया जाता है, के निर्माण का काम भी इसी साल शुरू किया जाएगा.

इस वर्ष के दौरान रनवे और विमान पार्किंग क्षेत्रों की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए इनकी सतहों पर अतिरिक्त बिटुमिनस परत बिछाने का कार्य भी किया जाएगा.