नया कोविड टेस्ट RTF-EXPAR, 3 मिनट में मिलेगा रिपोर्ट

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| ब्रिटेन ने कोरोना की जांच के लिए RTPCR टेस्ट का विकल्प तैयार किया है जिसका नाम RTF-EXPAR दिया गया है. इस टेस्ट से लोगों को सिर्फ 3 मिनट में पता चलेगा कि कोरोना पाज़िटिव हैं या नेगटिव. इसके आने वाले 2-3 महीनों में आम लोगों के लिए उपलब्ध होने की संभावना है.

ब्रिटेन के बर्मिंघम यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस वैक्सीन को तैयार किया है. उनका दावा है कि यह RTPCR टेस्ट से जल्द और सटीक रिजल्ट देता है.

RTF-EXPAR ऐसे काम करता है

शोधकर्ताओं ने एक ऐसी डिवाइस विकसित की है जो कोरोना का उसके जेनेटिक मैटेरियल के आधार पर पता लगाती है. जांच के लिए गले या नाक से लिए गए सैम्पल को उस डिवाइस में रखते हैं. यह डिवाइस कोरोना का पता लगाती है। यह जांच प्रोफेशल्स करते हैं. जांच का यह तरीका ऐसी जगहों के लिए भी सही होगा जहां समय बहुत कम होता है, जैसे-एयरपोर्ट. ऐसी जगहों पर कोविड की फास्ट स्क्रीनिंग हो सकेगी.

यूनिवर्सिटीज स्कूल ऑफ बायोसाइंसेज के प्रोफेसर टिम डैफ्रन का कहना है, सैम्पल में वायरल लोड कम होने पर रिजल्ट बताने में 8 मिनट तक का समय लग सकता है. वहीं, वायरल लोड अधिक होने पर 45 सेकंड लगते हैं.

शोधकर्ता प्रोफेसर एंड्रयू बेग्स कहते हैं, खूबियों के मामले नई जांच आरटीपीसीआर से किसी भी स्तर पर कम नहीं है. पॉजिटिव सैम्पल से 89 फीसदी और निगेटिव सैम्पल से 93 फीसदी तक सटीक जानकारी दी की जा सकती है.

RTF-EXPAR क्यों है RTPCR से बेहतर

शोधकर्ताओं का कहना है, दोनों टेस्ट के रिजल्ट आने के समय में काफी अंतर है. उनके अनुसार, जांच के रिजल्ट में जहां RTF-EXPAR को सिर्फ 8 मिनट लगते हैं वहीं RTPCR का रिजल्ट कम से कम 42 मिनट में आता है.

Also Read | पूर्व मध्य रेल: 28 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों के परिचालन अवधि में वृद्धि

शोधकर्ताओं के अनुसार, कई बार RTPCR टेस्ट से जांच का रिजल्ट आने में पूरा दिन लग जाता है क्योंकि सैम्पल को मरीज से लैब तक पहुंचने में लम्बा समय लग जाता है. नए RTF-EXPAR जांच से ऑन द स्पॉट रिजल्ट मिल जाता है.

RTF-EXPAR जांच की कीमत की

नए कोविड टेस्ट से जांच कराने पर कितना खर्च आएगा, वैज्ञानिकों ने इस बारे में कोई भी ऑफिशियल जानकारी नहीं जारी की है. वैज्ञानिकों का दावा है कि यह आरटीपीसीआर के मुकाबले सस्ता होगा. जल्द ही इस टेस्ट की जांच ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी करेंगे. इसके बाद यूके में इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा.
(सौ:डीबी)