सामने मिल गए जदयू एमएलए, जनता ने दिखा डाला ‘आईना’

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | लोगों को ‘आईना’ दिखाने की बात तो मालूम है लेकिन यदि किसी एमएलए को ‘आईना’ दिखाया जाए, और वो भी एक ‘नाली’ में तो ये बड़ी बेइज्जती की बात है. जी हाँ, गुरुवार को कुछ इसी तरह की वारदात हुई कुर्था विधानसभा के जेडीयू एमएलए के साथ जब उनके ही क्षेत्र के एक शख्स ने उन्हें पकड़ कर नाली के मामले में ही ‘आईना’ दिखा दिया.

जैसा कि मालूम है आगामी बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां पूरी तैयारी में लगी हैं. वर्तमान एमएलए अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर लोगों से जोर-शोर से मिलने का काम कर रहे हैं. सभी अपने वोटरों को लुभाने की कोशिश में लगे हैं ताकि आगामी चुनाव में फिर से लोग उन्हें वोट देकर विधायक चुन लें.

हर एमएलए की भांति कुर्था विधानसभा से जेडीयू एमएलए सत्यदेव कुशवाहा भी गुरुवार को अपने विधानसभा क्षेत्र में लोगों से मिलने के साथ घूमकर अपने काम का प्रचार-प्रसार कर रहे थे. एक इलाके में उन्हें काफी बेइज्जती झेलनी पड़ी. दरअसल उस इलाके में नाली नहीं बनाने को लेकर वहां की आक्रोशित जनता ने उन्हें नाली में ही ‘आईना’ दिखा दिया.

एमएलए की जमकर लगाई क्लास

लोगों से मिलकर अपने द्वारा किए गए कार्यों के बारे में बताने के दौरान उनकी मुलाकात एक ऐसे व्यक्ति से हो गई जिसने एमएलए कुशवाहा से उनके ही द्वारा किए गए कामों को लेकर कई सवाल खड़ा कर दिए. उस व्यक्ति ने एमएलए से पूछा कि यदि आपने इतने सारे काम किए हैं तो फिर आज तक इस गाँव में नाली क्यों नहीं बना. फिर इसी बात को लेकर उस व्यक्ति ने एमएलए की जमकर क्लास लगाई और उन्हें खरी-खोटी सुनाई.

इस दौरान किसी ने पूरे इस घटना क्रम का वीडियो बना डाला और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया. कुर्था विधानसभा एमएलए की बेइज्जती की घटना का यह वीडियो जबरदस्त रूप से वायरल हो रहा है जिसमें वह नाराज व्यक्ति एमएलए से यह कह रहा है कि एमएलए साहब को हम जनता की याद सिर्फ चुनाव के वक्त आती है.

वैसे एमएलए साहब को नाराज व्यक्ति के सवालों का कोई जवाब नहीं सूझ रहा था. वो सिर्फ यह कहते दिख रहे हैं कि वह काम करा देंगे. वैसे एमएलए ने उस व्यक्ति को मिलने के लिए अपने पास बुलाया लेकिन उसने मिलने से इंकार करते हुए कहा कि आपको नाली बनाने का काम करना होगा.

सच तो यही है कि अधिकांशतः नेता, चाहे वो किसी भी राजनीतिक पार्टी का हो, जनता से किए वादों पर खरा नहीं उतरते हैं. चुनाव के समय तो ये जनता के आगे पीछे-किया करते हैं लेकिन चुनाव जीत जाने के बाद उन्हें लगभग भूल जाते हैं. काश, अपने वायदों को पूरा करने में ये नेतागण आगे रहें तो कुर्था विधानसभा के एमएलए के जैसी बेइज्जती झेलनी न पड़ेगी और लोग खुशी मन से अपने नेता को जिताने में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेंगे. वैसे अब जनता भी जागरूक हो गई है और वह अपने प्रतिनिधियों से चुनाव के दौरान किए गए वादों का हिसाब लेने में पीछे नहीं रहती है.

Advertisements