WJAI की वर्चुअल बैठक सम्पन्न, लिए गए कई मह्त्वपूर्ण फ़ैसलें

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| “ले मशालें निकल पड़े हैं…… अब अँधेरा काट लेंगे” – शनिवार को आयोजित वेब जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (WJAI) की वर्चुअल बैठक में संगठन को नई ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए कई मह्त्वपूर्ण फ़ैसलें लिए गए. बता दें, डब्लूजेएआई अपने स्थापना काल से ही वेब जर्नलिस्ट्स के लिए लगातार काम करते आ रही है और इसका असर भी होता दिख रहा है.

बैठक को संबोधित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद कौशल ने कहा कि वेब जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया के मेहनत के चलते आज बिहार सरकार ने पत्रकारों को एक्रीडिटेशन की प्रक्रिया शुरू कर दी है. वहीं अभी हाल ही में केंद्र की सरकार ने भी वेब पत्रकारों को एक्रीडिटेशन देने के बारे में नोटिफिकेशन जारी किया है.

इसके साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि जल्द ही हम केंद्र सरकार से मांग करेंगे कि वेब पोर्टल एवं पत्रकारों को एक्रीडिटेशन देने के लिए अर्हता में छूट देने की मांग करेंगे.

उन्होंने कहा कि हमने बिहार और पश्चिम बंगाल राज्य कमिटी की घोषणा पहले ही कर दी है और जल्दी ही अन्य राज्यों में भी कमिटी की घोषणा की जाएगी. इसके साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष ने नये सदस्यों को जोड़ने की बात कही. उन्होंने कहा कि डब्लूजेएआई देश की सबसे बड़ी डिजिटल मीडिया का एसोसिएशन है और हमारी अपनी सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी है. हमारे पास सबसे अधिक सदस्य हैं और सभी अनुशासित भी हैं.

इस अवसर पर राष्ट्रीय महासचिव अमित रंजन ने कहा कि डब्लूजेएआई लगातार वेब जर्नलिस्ट्स के लिए काम कर रही है और हमारा ध्येय है कि वेब पत्रकारों को अधिकाधिक सुविधा उपलब्ध करवाई जाए और उन्हें भी प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों की तरह सम्मान दिलाई जाए.

यह भी पढ़ें| दरभंगा ट्रिपल मर्डर केस का मुख्य आरोपी गिरफ़्तार

उन्होंने कहा कि हमें मीडिया एथिक्स को हमेशा अपने ध्यान में रहना चाहिए और उसके अनुसार ही काम करना चाहिए. उन्होंने कहा कि डब्लूजेएआई का डब्लूजेएसए भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय से निबंधित है और हमारी बातों को वहां जरुर सुनी जाएगी.

बैठक को संबोधित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष ओम प्रकाश अश्क ने कहा कि डब्लूजेएआई एक मजबूत एसोसिएशन है और हम अपनी बातें सरकार के सामने भी मजबूती से रखते हैं.

उन्होंने कहा कि हमें इस बात की ख़ुशी है कि सरकारें हमारी बातों का सम्मान भी कर रही है. आज बिहार में सरकार वेब न्यूज़ पोर्टल्स को मान्यता दे रही है तो केंद्र सरकार ने भी नोटिफिकेशन जारी कर दी है. हम अगर संयमित रहें तो अन्य राज्यों में भी सरकार हमारी बातों को सुनेगी और वेब पत्रकारों के हित में फैसले लेगी.

वहीं, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष माधो सिंह ने कहा कि हमें सरकार को एक ज्ञापन देकर मांग करनी चाहिए कि हमारा सारा काम इंटरनेट के माध्यम से होता है तो डब्लूजेएआई से संबद्ध सभी वेब पोर्टल संचालकों को सस्ते दर पर इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध कराई जाए.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि डब्लूजेएआई जल्द ही इस मुहीम में जुट जाये ताकि हर राज्य वेब पत्रकारों को मान्यता दे और वेब पत्रकारों को विधान सभा एवं विधान परिषद में जाने के लिए पास उपलब्ध कराई जा सके.

यह भी पढ़ें| OLX से मोबाइल खरीदना युवक को पड़ा महंगा, चोरी के केस में गया जेल

सितम्बर 22 में होगा वेब पत्रकारों का ग्लोबल समिट

इस बैठक में राष्ट्रीय सचिव निखिल के डी वर्मा ने कहा कि डब्लूजेएआई एक मजबूत प्लेटफार्म है और जल्द ही हम सरकार से अपने हक लेने में कामयाब होंगे. उन्होंने बताया कि कोरोना के काल में यदि सब कुछ ठीक रहा तो संगठन सितम्बर 22 में वेब पत्रकारों के ग्लोबल समिट का आयोजन करेगा.

वर्चुअल बैठक के दौरान आगामी 3 अप्रैल को बिहार की राजधानी पटना में राष्ट्रीय कार्यसमिति की विस्तारित बैठक आयोजित करने का निर्णय लिया गया. वहीं सितम्बर महीने के लगभग में एक ग्लोबल समिट आयोजित करने का भी निर्णय लिया गया.

बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद कौशल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष माधो सिंह, राष्ट्रीय महासचिव डॉ अमित रंजन, राष्ट्रीय सचिव निखिल के डी वर्मा, राष्ट्रीय संयुक्त सचिव मधुप मणि पिक्कू, डॉ लीना, अकबर इमाम, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष ओमप्रकाश अश्क, राष्ट्रीय कार्यालय सचिव मंजेश कुमार, बिहार प्रदेश अध्यक्ष प्रवीण बागी, अक्षय आनंद, चंदन कुमार, गौतम गिरियग, प्रफुल्ल झा, बालकृष्ण, रंजित कुमार सिंह, अनुभव रंजन, हरेंद्र कुमार, गनपत आर्यन, मृत्युंजय शर्मा, प्रशांत प्रकाश, सुभाजीत घोष, वशिष्ट कुमार, कुणाल भगत, समेत अन्य कई सदस्य मौजूद थे.