Patna High Court के पूर्व जज जस्टिस ए के त्रिपाठी कोरोना संक्रमित, एम्स दिल्ली में भर्ती

पटना (TBN रिपोर्ट) | ज्ञात सूत्रों के अनुसार छतीसगढ़ उच्च न्यायालय के पूर्व चीफ जस्टिस और लोकपाल (न्यायिक) के वर्तमान सदस्य जस्टिस अजय कुमार त्रिपाठी सम्पूर्ण विश्व में मौत का साया बने कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं. उनकी हालत गंभीर है तथा वे नई दिल्ली स्थित एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) में भर्ती हैं. उनकी स्थिति गंभीर है तथा उन्हें ट्रामा सेंटर में रखा गया है. भारत के वे पहले बड़े पद पर आसीन शख्स हैं जिन्हें कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है
बताते चलें, जस्टिस त्रिपाठी छतीसगढ़ उच्च न्यायालय के चीफ जस्टिस बनने से पूर्व पटना उच्च न्यायालय में जज के पद पर थे. जस्टिस अजय कुमार त्रिपाठी बोकारो के निवासी है. जस्टिस त्रिपाठी के पिता और परिवार के अन्य सदस्य बोकारो में ही रहते हैं. वे बोकारो में इंटक को मुकाम तक पहुंचाने वाले स्व. पंडित परमानंद त्रिपाठी के पौत्र हैं. बोकारो इस्पात नगर से इनका गहरा नाता रहा है. इन्होंने स्कूली शिक्षा संत जेवियर्स स्कूल बोकारो में ली तथा यहां से प्लस टू करने के बाद दिल्ली के मशहूर श्रीराम कॉलेज से उच्च शिक्षा ग्रहण की. दिल्ली विवि से कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने 1981 से पटना हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू की. बोकारो व्यवहार न्यायालय के साथ भी उनका संबंध रहा है. 9 अक्टूबर 2006 में वह पटना हाईकोर्ट में जज के रूप में जुड़े और 21 नवंबर 2007 को हाई कोर्ट के नियमित जज बने. 7 जुलाई 2018 को छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस बने. उसके बाद जस्टिस 27 मार्च 2019 को देश के प्रथम लोकपाल के सदस्य के रूप में शपथ ली.
बताया जाता है कि जस्टिस त्रिपाठी कोरोना वायरस से गम्भीर रूप से बीमार हैं. उन्हें शुक्रवार को नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स ) के आईसीयू में भर्ती किया गया है जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है.