छोटे बिजनेसमैन के लिए जियो का सस्ता ब्रॉडबैंड प्लान्स

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| जियो बिजनेस (Jio Business) ने माइक्रो, स्माल और मीडियम बिज़नेस के लिए एक लिए कुछ नए ब्रॉडप्लान लॉन्च किए हैं. ये प्लान एंटरप्राइज-ग्रेड फाइबर कनेक्टिविटी के साथ हैं और इनके साथ कॉलिंग और डेटा, दोनों की सुविधा मिलेगी. इसके साथ ही जियो बिजनेस के तहत कंपनी डिजिटल सॉल्यूशंस देगी जिससे बिज़नेस मालिकों को अपने व्यवसाय को मैनेज और विकसित करने में मदद मिलेगी.

जियो बिजनेस के बारे में बताते हुए आकाश अंबानी ने कहा कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम बिज़नेस भारतीय अर्थव्यवस्था का आधार हैं. जियोबिजनेस छोटे व्यवसायों को इंटीग्रेटेड एंटरप्राइज-ग्रेड सेवाएं और डिजिटल सॉल्यूशंस देकर छोटे बिज़नेस की मदद करेगी.

उन्होंने आगे कहा कि ये आसान सलूशन उन्हें अपने व्यवसाय को कुशलता से चलाने और बड़े उद्यमों के साथ प्रतिस्पर्धा करने में मदद करेंगे. वर्तमान में एक सूक्ष्म और लघु व्यवसाय कनेक्टिविटी, प्रोडक्टिविटी और ऑटोमेशन टूल्स पर 15,000 से 20,000 रुपये प्रति माह खर्च करता है. हम इस कीमत के दसवें हिस्से में पूरी कनेक्टिविटी प्रदान कर रहे हैं. आज हम अपनी बेहतर कनेक्टिविटी के साथ अच्छा प्लान लाए हैं जो छोटे व्यवसायों को सशक्त बनाने की दिशा में पहला कदम है.

जियो का नया बिज़नेस प्लान

जियो छोटे कारोबारियों को 901 रुपये में ब्रॉडबैंड और कॉलिंग सर्विस ऑफर कर रहा है. जियो के इस प्लान के साथ ग्राहकों को 100 एमबीपीएस की अपलोड और डाउनलोड इंटरनेट स्पीड मिलेगी. साथ ही एक अनलिमिटेड कॉलिंग वाला ब्रॉडबैंड कनेक्शन भी दिया जाएगा.

आकाश अंबानी ने कहा कि इस कदम के साथ मुझे पूरा भरोसा है कि लाखों सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम समृद्धि की ओर तेजी से आगे बढ़ने में सक्षम होंगे और एक नया आत्‍मनिर्भर डिजिटल भारत बनाने में अपना योगदान देंगे.

Jio Business Broadband Plans

आप यह भी पढ़ेंपटना में गंगा पर नए फोर लेन पुल का कार्यारम्भ अगले महीने सम्भव

जियोबिजेस के प्रमुख फायदे

बेहतर उपभोक्‍ता अनुभव: उपभोक्‍ता लाइफसाइकिल के बीच बेहतर जुड़ाव,
बिजनेस को ऑनलाइन लाना और राजस्‍व में वृद्धि: बिजनेस को ऑनलाइन बनाता है,
24×7 ऑपरेशन का परिचालन: कर्मचारियों, उपभोक्‍ता और व्‍यवसाय का कभी भी कहीं से भी प्रबंधन करना
कारोबारी दक्षता में वृद्धि: ऑपरेशन को बढ़ाने के लिए डिजिटल समाधान का उपयोग
लागत में कमी: डिजिटल सॉल्‍यूशंस के जरिये प्रोडक्टिविटी में इजाफा