श्रद्धा व धूमधाम से मनाया गया जन्माष्टमी का त्योहार

देश भर में सोमवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार बहुत श्रद्धा व धूमधाम से मनाया गया. भगवान श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार धूमधाम से मनाया गया. मंदिरों में धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया. पूजा अर्चना के साथ परिवार के लिए प्रार्थना की गई. इस दौरान शुभ मुहूर्त पर श्रद्धालुओं ने अपने व्रत खोले.

बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट)| बाढ़ नगर परिषद के कई वार्डों में कृष्णाष्टमी जयंती महोत्सव बड़े धूमधाम से मनाया गया. बाढ़ नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर 7 में लोगों ने कृष्णाष्टमी महोत्सव के अवसर पर पूजा अर्चना की और अर्ध रात्रि के बाद प्रसाद लेकर अपने-अपने घरों को चले गए.

कोइलवर/भोजपुर (TBN – आमोद कुमार की रिपोर्ट)| श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार सोमवार को नगर एवं देहात क्षेत्र में हर्षोल्लास से मनाया गया. मंदिरों में दिनभर सजावट का कार्य चलता रहा. रात्रि में मंदिरों में पूजा अर्चना के लिए लोगों का तांता उमड़ पड़ा.

सोमवार को भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के उपलक्ष्य में अधिकांश लोगों ने व्रत रखा और शाम को मंदिरों में सजी मंदिरों में पूजा कर प्रसाद ग्रहण किया. सरस्वती कला केंद्र कोइलवर स्थित मंदिर, जमालपुर, कायमनगर, धनडीहा, चांदी, गीधा के मंदिरों समेत अन्य मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण की सुंदर झांकियां सजाई गई. कीर्तन मंडली ने ठाकुरजी के भजनों का गुणगान किया.

Also Read| कल से राजेंद्रनगर टर्मिनल-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस में होगा यात्रा का सुखद अनुभव

सरस्वती कला केंद्र स्थित मंदिर के पुजारी पंडित अशोक ने बताया कि भगवान श्रीकृष्ण का गुणगान करने से चित्त (मन) को शांति मिलती है. आत्मसुख में बढ़ोतरी होती है. भगवान श्रीकृष्ण के जन्म को हजारों वर्ष बीत जाने के बाद भी आज तक उसी उल्लास के साथ जन्माष्टमी पर्व मनाया जा रहा है.

यह पर्व आज भी वही उल्लास, आनंद, माधुर्य और रसमय जीवन देने का सामर्थ्य रखता है. भक्तों को इस दिन उपवास रखकर आत्मिक अमृत पान करना चाहिए. प्रखण्ड के मंदिरों सहित घर घर में भगवान फूलों से श्रीकृष्ण का झूला का बनाया गया.