I-T ने प्रमुख सड़क निर्माण ठेकेदार के ठिकानों पर की छापेमारी, 5.71 करोड़ रुपये जब्त, लॉकर सील

पटना / नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| आयकर विभाग (Income Tax Department) ने बिहार और झारखंड के एक प्रमुख सड़क निर्माण ठेकेदार (Road Construction Contractor), अमहारा कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ तलाशी और जब्ती की कार्रवाई की. बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में स्थित इसके विभिन्न परिसरों में तलाशी कार्रवाई शुरू की गई थी.

खरीद पर खर्च बढ़ाकर मुनाफा छिपाया

तलाशी में पता चला कि यह समूह सामग्री की खरीद पर खर्च बढ़ाकर अपने मुनाफे को छिपा रहा है. इस तरह की अतिरिक्त सामग्री बाजार में नकद में बेची जाती है लेकिन इस तरह से प्राप्त नकदी का कोई लेखा-जोखा नहीं होता है.

यह भी पढ़ें| फिलमची भोजपुरी पर होगा ‘प्रेम गीत 2’ का वर्ल्ड TV प्रीमियर

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (Central Board of Direct Taxes) के द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि तलाशी में पाया गया है कि यह समूह अन्य व्यावसायिक खर्चों को बढ़ाने के लिए आवास द्वार प्राप्त करने में शामिल है. इन संदिग्ध कार्यकलापों में इस समूह की सहायता करने वाले कमीशन एजेंटों के परिसर से हस्तलिखित डायरी जैसे आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए हैं.

बिना लेखा-जोखा नकदी के सबूत

विज्ञप्ति के अनुसार, इन जब्त दस्तावेजों में बिना किसी लेखा-जोखा के नकदी हासिल करने और सामग्री की आवाजाही के सबूत हैं. तलाशी की कार्रवाई में यह भी पता चला कि यह समूह संविदात्मक प्राप्तियों और सेवा आय को भी छिपा रहा है. यह भी पाया गया कि समूह के पास बिल और वाउचर जैसे सहायक दस्तावेजों के साथ उचित बही-खाता भी नहीं है.

आयकर की चोरी

तलाशी के दौरान बरामद और जब्त किए गए विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज विभिन्न स्थानों पर अचल संपत्तियों में निवेश के लिए अलग-अलग जगहों पर बेहिसाब नकदी की आवाजाही और व्यक्तिगत तौर पर नकद खर्च का संकेत देते हैं. तलाशी अभियान के दौरान यह पता चला है कि फर्जी बिलों के कमीशन एजेंटों और आपूर्तिकर्ताओं ने भी करोड़ों की आय पर कर की चोरी की है क्योंकि वे अन्य पार्टियों को भी आवास द्वार उपलब्ध कराने में लिप्त हैं.

तलाशी कार्रवाई में 5.71 करोड़ रुपये की बेहिसाबी नकदी बरामद हुई है. दस बैंक लॉकरों पर रोक लगा दी गई है. सावधि जमा आदि में किए गए लगभग 60 करोड़ रुपये के निवेश का भी सत्यापन चल रहा है. तलाशी की इस कार्रवाई में करीब 100 करोड़ रुपये की बेहिसाब आय का पता चला है. मामले में आगे की जांच जारी है.