मुझे नहीं इन्वेस्टीगेशन को क्वारंटाइन किया गया: आईपीएस विनय तिवारी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बारे में पूछताछ करने मुंबई पहुंची थी बिहार पुलिस.

मुंबई सरकार द्वारा जांच में मदद नहीं मिलने के बाद बिहार से आईपीएस विनय तिवारी को भेज गया था. मुंबई पहुँचते ही आईपीएस विनय तिवारी को बीएमसी ने जबरन क्वॉरंटाइन कर दिया था. बीएमसी के इस कदम की काफी आलोचना भी की गई थी. बता दें सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के दौरान कहा था कि इससे गलत संदेश गया है.

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच सीबीआई के हाथ में आ गई है. इसके बाद ही मुंबई पहुंची बिहार की स्पेशल टीम वापस लौट आई थी, लेकिन विनय तिवारी को उस वक्त तक क्वॉरंटाइन में ही रखा गया था.

हालांकि आज विनय तिवारी को बीएमसी ने छोड़ दिया है और वह मुंबई से पटना के लिए निकल चुके. उनसे जब इस बार में पूछा गया तो उन्होंने कड़े लहजे में कहा कि मुझे नहीं बल्कि जांच इन्वेस्टिगेशन को क्वारंटाइन किया गया था.

बता दें कि मुंबई पहुंचे बिहार के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को IPS हॉस्टल में रुकने की जगह नहीं दी गई थी. उन्होंने जब अपने रहने की व्यवस्था की तो उनसे उनका ठिकाना पूछा गया. पता मिलते ही बीएमसी ने विनय तिवारी को कोरोना के डर से क्वॉरंटाइन कर दिया था.