Breakingफीचर

फैमिली कोर्ट के प्रधान जज पर तानी राइफल, प्राथमिकी दर्ज

खगड़िया (TBN – The Bihar Now डेस्क)| मंगलवार को खगड़िया जिले के फैमिली कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश पर उनकी ही सुरक्षा में लगे जवान ने राइफल (Homeguard Jawan pointed rifle at Family Court Principal Judge in Khagaria) तान दी. फैमिली कोर्ट के जज के आवेदन पर मुफस्सिल थाने में जवान के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है.

जानकारी के मुताबिक, वीरेंद्र सिंह नाम का गृहरक्षक (House-guard) फैमिली कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश राजकुमार की सुरक्षा में लगा हुआ था. मंगलवार सुबह जज और जवान के बीच किसी बात पर कुछ कहा सुनी हुई. उसके बाद जवान ने प्रधान न्यायाधीश पर राइफल तान दी. जवान होमगार्ड का है जो महेशखूट थाना क्षेत्र के पतला गांव निवासी है.

इस घटना की जानकारी मिलते ही एसपी अमितेश कुमार ने ओएसडी इंस्पेक्टर को जांच के लिए भेजा. वहां जाकर ओएसडी ने पाया कि होमगार्ड का जवान कुर्सी पर बेसुध पड़ा हुआ था.

इसके बाद उस जवान को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहां से डॉक्टरों ने उसे रेफर कर दिया जिसके बाद होमगार्ड के जवान को बेगूसराय के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. सूत्रों के मुताबिक, उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है.

यह भी पढ़ें| 2022-23 बजट की मुख्य बातें

इधर, बुधवार को फैमिली कोर्ट के जज के आवेदन पर मुफस्सिल थाने में एफआईआर दर्ज की गई है. एसपी अमितेश कुमार ने बताया कि फैमिली कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश के साथ एक गृहरक्षक ने बदतमीजी करते हुए उनपर राइफल तान दी थी.

प्रधान न्यायाधीश ने थाने में दिये आवेदन में कहा है कि मंगलवार की सुबह करीब 5:15 बजे टहलने निकले थे. वापस लौटा तो गेट ड्यूटी पर किसी गार्ड को नहीं पाया. बगल के गैरेज में गार्ड वीरेंद्र सिंह खड़े थे. जब उनसे कहा गया कि गेट पर क्यों नहीं हैं, तो उन्होंने ने कहा कि हमारा गेट खोलना ड्यूटी नहीं है. जब उन्हें कहा गया कि आवास की सुरक्षा पर ध्यान दीजिए, तो उसने अभद्र शब्दों का प्रयोग किया. गार्ड ने राइफल मेरे सीने पर सटा कर कहा कि गोली मार दूंगा.

उन्होंने बताया कि इस पूरे मामले की जांच के लिए जब अधिकारी को वहां भेजा गया तो गृहरक्षक एक कुर्सी पर बेसुध पड़ा हुआ था. लगता था कि जवान को चोट लगी थी और उसके साथ मारपीट भी की गई थी. बहरहाल, इस पूरे मामले की जांच के लिए “तीन लोगों” की एक कमेटी बनाई गई है.

दूसरी ओर, होमगार्ड के जवान ने भी प्रधान न्यायाधीश पर मारपीट का आरोप लगाते हुए पुलिस केंद्र के परिचारी प्रवर (Police Station Attendant) को आवेदन दिया है.