अग्निपथ बवाल पर गुरु रहमान ने दी सफाई; कहा – ‘हिंसा में हाथ के सबूत मिलें तो हर सजा मंजूर’

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्य में अग्निपथ भर्ती योजना के विरोध में हुए हिंसक वारदातों में पुलिस ने कई कोचिंग संस्थानों पर कानूनी कार्यवाई करना शुरू कर दिया है. इसी कड़ी में सोमवार को गुरु रहमान के कई ठिकानों पर छापेमारी की गई. उनपर अग्निपथ योजना के विरोध में छात्रों को भड़काने का आरोप है.

उसके बाद मंगलवार को गुरु रहमान ने अपना एक वीडियो जारी कर सफाई दी है और कहा है कि इन हिंसक वारदातों में मेरा कोई हाथ नहीं है. उन्होंने अपने को बेकसूर बताया है.

गुरु रहमान ने वीडियो मैसेज में सफाई दी है कि छात्रों से उन्होंने ट्रेन रोकने की बात कही थी, लेकिन हिंसा करने को नहीं कहा था. रहमान ने कहा कि उनके खिलाफ अगर कोई भी सबूत मिलते हैं तो वो सजा भुगतने को तैयार हैं.

हिंसा में हाथ नहीं

अपने वीडियो में गुरु रहमान ने कहा है कि अग्निपथ के विरोध में जो भी घटना हुई है, उसमें मेरा किसी भी रूप से कहीं भी योगदान नहीं था. उन्होंने कहा कि घटना के पहले दिन कुछ बच्चे, जिनको मैं नहीं पहचानता हूं, आकर हमसे कहा था कि हम लोग रेल रोकने जा रहे हैं. लेकिन हमने कहा था कि रेल रोको लेकिन कुछ नुकसान नहीं पहुंचाना. हिंसात्मक काम नहीं करना है. उसके बाद मेरे ऊपर FIR हुई है और इनकम टैक्स का छापा पड़ा है. मेरे द्वारा किसी भी तरह की कोई भी हिंसा की बात कही गई है तो मैं उसकी सजा भुगतने को तैयार हूं. देखें, नीचे पूरा वीडियो.

यह भी पढ़ें| हथियार जब्ती मामले में बाहुबली राजद विधायक अनंत सिंह को 10 साल की सजा

गुरु रहमान ने कहा कि मैं 1994 से पढ़ाने का काम कर रहा हूं. मैं कभी भी हिंसा की बात न करता हूं और न मैं कभी हिंसा के पक्ष में लोगों को भड़काता हूं. मैं हिंसा के पक्ष में इसलिए भी नहीं हूं कि यदि छात्र हिंसा करते हैं तो उन पर एफआईआर होती है और उनका कैरियर खराब हो जाता है.

रहमान ने कहा कि दानापुर की घटना पूरी तरह से गुंडों द्वारा की गई है. कहीं भी कुछ भी यदि व्हाट्सएप या कोई मैसेज मेरी ओर से किया गया है तो मैं सजा भुगतने को तैयार हूं.

बताते चलें, सोमवार को अग्निपथ हिंसा मामले में गुरु रहमान के कई ठिकानों पर छापेमारी की गई. उनपर छात्रों में हिंसा के लिए उकसाने का आरोप है. पहले तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करने के लिए दबिश बनाई. लेकिन, वह नहीं मिले तो इनकम टैक्स की टीम ने उनके ठिकानों पर छापेमारी कर दी. हालांकि गुरु रहमान अभी प्रशासन की नजर से दूर हैं.