वर्ल्ड कैंसर डे पर मुफ्त परामर्श, एक्सरे, अल्ट्रासाउण्ड एवं मेमोग्राफी

पटना (TBN – The Bihar Now desk)| कैंसर के कुप्रभाव से दुनिया भर को जागरूक करने के उद्देश्य से 4 फरवरी विश्व कैंसर दिवस (World Cancer Day) के रूप में मनाया गया. बिहार के कैंसर सुपर मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल सवेरा कैंसर हॉस्पिटल (Savera Cancer Hospital) ने 4 फरवरी को मरीजों को मुफ़्त सुविधाओं का लाभ दिया गया.

इस हॉस्पिटल की ओर से अपने परिसर में आने वाले मरीजों को मुफ्त कैंसर ओपीडी सेवा के साथ बेहतर स्क्रीनिंग के लिए मुफ्त एक्सरे एवम मेमोग्राफी, अल्ट्रासाउंड तथा मुफ्त पैथोलॉजिकल सुविधा प्रदान की गई.

एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए संस्थान के निर्देशक डॉ वी पी सिंह ने बताया कि कैंसर दिवस को लगभग 500 लोगों को मुफ्त परामर्शी सेवा, 100 एक्सरे, 30 अल्ट्रासाउंड एवम 40 लोगों की मेमोग्राफी की गई, जिससे उनका उचित इलाज संभव हो सके.

कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ वी पी सिंह ने बताया कि किस तरह कैंसर समाज के हर तबके तक अपनी जकड़ बना रहा है और कैंसर से लड़ने के लिए समाज को जागरूक करते रहने की जरूरत है. इस अवसर पर कुछ रियल लाइफ कैंसर वारियर्स भी उपस्थित रहे जिन्होंने अपनी आपबीती भी खुद से सुनाई एवं बताया कि कैसे मुश्किल समय में हिम्मत, पॉजिटिव जज्बे एवम सही इलाज से वे अभी स्वस्थ महसूस कर पा रहे हैं.

इस अवसर पर बोलते हुए डॉ वी पी सिंह ने आगे कहा कि तंबाकू से होने वाले कैंसर मरीजों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है. दुनिया भर में आज तंबाकू के सेवन से लगभग 50 लाख लोग हर साल मरते हैं, जबकि यह आंकड़ा भारत में दस लाख से ज्यादा है. यह संख्या 2022 तक 25 लाख तक पहुंच जाने की आशंका है.

डॉ सिंह ने कहा किभारत में 20 लाख से ज्यादा मरीज तंबाकू सेवन के कारण कैंसर पीड़ित हैं. इनमें 20 प्रतिशत सिगरेट, 40 प्रतिशत बीड़ी, और 40 प्रतिशत पानी खैनी आदि चबाते हैं. लगभग 55 हजार बच्चे हर साल इसके शिकार हो रहे हैं. हर साल तंबाकू जनित रोगों से 8 लाख लोग मरते हैं, यानी हर घंटे 90 लोगों की मौत की वजह सिर्फ तंबाकू है. उन्होंने बताया कि तंबाकू और इसके धुएं में लगभग 4000 केमिकल पाये गए हैं, जिनमें 60 से अधिक केमिकलों का कैंसर से सीधा रिश्ता है. बिहार में लगभग तीन लाख कैंसर रोगी में 70 प्रतिशत तंबाकू जनित हैं. तंबाकू सेवन से पुरूषों में नपुंसकता और महिलाओं में प्रजन्ना क्षमता भी कम होती जा रही है.

डॉ सिंह ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि तंबाकू से दुष्प्रूभाव के खिलाफ हमने जो अभियान चलाया है, उसमे आम लोगों का अहम योगदान जरूरी है. तभी हम तंबाकू मुक्तु समाज बना सकेंगे. साथ ही उन्होंने राज्य सरकार से तंबाकू उत्पाद पर रोक लगाने की सलाह दी और कहा कि आज देश के 15 राज्यों में तंबाकू पूरी तरह से प्रतिबंधित है. उन्होंने कहा कि तंबाकू से मुंह, गला, अमाशय, यकृत, फेफड़े का कैंसर तथा हृदय रोग बढ़ जाती है. तंबाकू जनित रोगों में सबसे ज्यादा मामले फेफड़े और रक्त संबंधित रोगों के हैं, जिनका इलाज न केवल महंगा जटिल भी है.

उन्होंने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान (ICMR) की रिपोर्ट के हवाले से कहा कि पुरूषों में 50 प्रतिशत और महिलाओं में 25 प्रतिशत कैंसर की वजह तंबाकू हैं. इनमें 90 प्रतिशत में मुंह का कैंसर है. इसलिए राज्य् को कैंसर मुक्त बनाने के लिए लोगों को जागरूक करने की आवश्याकता है. कैंसर सम्बन्धी इलाज के लिए उन्होंने मल्टी स्पेशलिटी कैंसर अस्पताल के उपयोगिता पर भी प्रकाश डाला एवम बताया कि कैसे अनवरत रिसर्च, इलाज के तरीके में नए अन्वेषण और ट्रीटमेंट्स की सतत प्रक्रिया द्वारा कैंसर को मात देने के लिए सवेरा कैंसर अस्पताल प्रतिबद्ध है. सवेरा कैंसर हॉस्पिटल एक मिशन के तौर पर काम कर रहा है, जहां बिहार या आसपास के प्रदेशों के मरीज या उनके परिजन को अपने घर के नजदीक रहकर ही इलाज की सम्पूर्ण सुविधा कम से कम खर्चे में उपलब्ध हो सके, उस दिशा में ही प्रयास कर रही है.

कैंसर दिवस के अवसर पर आयोजित इस शिविर में डॉ आकाश सिंह, डॉ विशाल,डॉ फ़ैज़ अशरफ, डॉ प्रियेष, डॉ आशिष, डॉ प्रतीक,डॉ शमी एवं डॉ विवेक समेत अन्य डॉक्टर भी मौजूद थे.