Corona मरीजों का अस्पतालों से भागना लगातार जारी, रोकने के लिए पुलिस की तैनाती

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट):- बिहार सरकार ने कोरोना के आशंकित मरीजों के उपचार के लिए अस्पताल में सुगम व्यवस्था कर रखी है इसके बावजूद भी कोरोना के आशंकित मरीजों का अस्पताल से भागना बदस्तूर जारी है. हालांकि अस्पताल में अभी तक कोरोना के जितने भी आशंकित मरीज भर्ती किये गए हैं उन सभी की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है.

नालंदा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. विजय कुमार गुप्ता ने अस्पताल व्यवस्था और कोरोना के बारे जानकारी देते हुए बताया कि “अस्पताल में कोरोना संक्रमित 15 मरीजों को भर्ती कर उपचार की व्यवस्था की जा रही है. वहीं, वर्तमान में कोरोना आशंकित लोगों को एहतियातन भर्ती करने के लिए आइसोलेशन वार्ड में 23 बेड हैं”. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि “कोरोना के दो अतिगंभीर रोगियों के वेंटिलेटर आदि की व्यवस्था अगमकुआं स्थित संक्रामक रोग अस्पताल में कर ली गई है”.

अस्पताल से मरीजों के भागने के बारे में बात करते हुए डॉ. गुप्ता ने बताया कि “इलाज के दौरान आइडीएच से कोई मरीज भागे नहीं इसके लिए स्वास्थ्य मंत्री के निर्देशानुसार पुलिसकर्मी की तैनाती की जाएगी. डीएम व एसएसपी से बातचीत कर व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है. उन्होंने बताया कि संक्रामक रोग अस्पताल में वेंटिलेटर व मॉनीटर लगा दिए गए हैं. यहां आइसीयू की सुविधा विकसित की जा रही है. इसके लिए गैस पाइप लाइन बिछाने की तैयारी है. इसे डेंगू व स्वाइन फ्लू समेत अन्य संक्रामक रोगों से ग्रसित लोगों के उपचार के लिए तैयार किया जा रहा है. यहां मेडिसिन विभाग के डॉक्टरों की टीम नोडल पदाधिकारी डॉ. अजय कुमार सिन्हा के नेतृत्व में 24 घंटे मुस्तैद है”.