डिप्टी सीएम का दावा – 31 मई से पहले भर दिए जाएंगे पटना की सड़कों के गड्ढे

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्य के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद (Deputy Chief Minister Tarkishore Prasad) ने दावा किया है कि आगामी 31 मई से पहले राजधानी की सड़कों के गड्ढे भर दिए जाएंगे. वे सोमवार को राजधानी पटना को जलजमाव से निजात दिलाने के लिए नमामि गंगे परियोजना (Namami Gange Project) के तहत अलग-अलग जगहों पर खोदी गई सड़कों और गड्ढों का जायजा लेने पटना की गलियों में निकले थे.

इस संबंध में सोमवार को डिप्टी सीएम ने पटना साहिब समेत राजधानी के कई इलाकों का दौरा किया. इस दौरान तारकिशोर प्रसाद ने शहरी विकास विभाग (Urban Development Department) के अधिकारियों को सड़कों पर चल रहे सभी निर्माण कार्यों को 31 मई तक पूरा करने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि अब से मानसून आने तक पटना की सड़कों पर नई खुदाई नहीं होगी.

नमामि गंगे परियोजना के तहत पटना के पहाड़ी जोन-5 अंतर्गत शेरशाह लिंक रोड, कर्मलीचक सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (Karmalichak Sewerage Treatment Plant under Pahari Zone-5 of Patna) के कार्यों का जायजा लेते हुए उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने दावा किया कि इस बार पटना में मानसून के दौरान जलजमाव की स्थिति नहीं बनने दी जाएगी. गड्ढों को भरने के बाद जल्द ही उन पर सड़क का निर्माण किया जाएगा.

मानसून से पहले पटना की सड़कों का हाल देखने सड़क पर उतरे उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद के साथ पटना साहिब से विधायक नंदकिशोर यादव (Patna Sahib BJP MLA Nandkishore Yadav) व शहरी नगर विकास विभाग की पूरी टीम मौजूद थी.

भाजपा विधायक नंदकिशोर यादव ने कहा कि 31 मई तक काम पूरा करना बड़ी चुनौती है. सिर्फ गड्ढों को भरने से काम नहीं चलेगा, इसके बाद सड़कें भी बनानी होंगी. शहर के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

आपको बता दें कि पटना के दानापुर (Danapur in Patna) से लेकर पटना शहर तक कई ऐसे स्थान हैं जहां जलजमाव की समस्या को खत्म करने और नमामि गंगे परियोजना के तहत दर्जनों जगहों पर गड्ढे बना दिए गए हैं. इन गड्ढों को भरना और सड़कों का निर्माण शहरी विकास विभाग और सड़क निर्माण विभाग के लिए एक बड़ी चुनौती है. पिछली बार राजधानी के कंकड़बाग और राजेंद्र नगर इलाके जलमग्न हुए थे, जिसके लिए नमामि गंगे की परियोजना को जिम्मेदार ठहराया गया था.