स्वास्थ्य प्रबंधक के अविलंब पदस्थापना की स्वास्थ्य मंत्री से माँग

पंडारक / बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर कु सिन्हा रिपोर्ट)| पटना जिला ग्रामीण कांग्रेस के अध्यक्ष सह बाढ़ विधान सभा के पूर्व प्रत्याशी सत्येंद्र बहादुर ने बिहार के स्वास्थ्य मंत्री से माँग की है कि बाढ़ अनुमंडल के पंडारक प्रखण्ड स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में स्वास्थ्य प्रबंधक की पदस्थापना अविलंब की जाए.

जैसा कि मालूम है, पिछले दिनों दी बिहार नाउ ने पंडारक प्रखण्ड स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के बारे में समाचार दी थी जिसमें बताया गया था कि इस अस्पताल में नियुक्त हेल्थ मैनेजर अर्थात स्वास्थ्य प्रबंधक मोबाईल पर ही पटना से सरकारी काम निपटाते हैं.

वहीं, पंडारक प्रखंड में पदस्थापित प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक कृष्णकांत सिंह ने बातचीत के दौरान बताया कि कोरोना संबंधित कार्य के लिए उनकी प्रतिनियुक्ति फिलहाल पटना में की गई है. इस कारण वे पंडारक अस्पताल का कार्य अपने वर्तमान प्रतिनियुक्ति स्थल से ही फोन पर निपटाते हैं.

सत्येंद्र बहादुर ने कहा कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में अस्पताल में एक स्वास्थ्य प्रबंधक का नहीं होना सरकार के प्रबंधन पर एक बड़ा सवाल खड़ा करता है. एक तरफ सरकार SOP जारी करती है कि कोरोना काल में जिनकी जहाँ पदस्थापना है, वे अपनी ड्यूटी वहीं से करेंगे; दूसरी ओर रसूखदार अधिकारी ऐसे नियम से मुक्त रखे जाते हैं.

इसे भी पढ़ेंइस अस्पताल में चल रहा है डेप्युटेशन का खेल

सत्येन्द्र ने कहा कि यह शासन व्यवस्था में न्याय और नीति की पोल खोलती है. आज कोरोना से पूरा देश तबाह है, खासकर ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य व्यवस्था बिल्कुल लचर स्थिति में है. लोग परेशान हैं. ऐसी परिस्थिति में पंडारक से प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक (हेल्थ मैनेजर) को बाढ़ का भी अतिरिक्त प्रभार देते हुए पटना में पदस्थापन किसके आदेश से हुआ, यह एक गंभीर विषय है.

उन्होंने मांग की कि इसकी जाँच कर दोषी अधिकारी पर विधि सम्मत कारवाई की जाए. साथ ही पंडारक में अविलंब प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक की पदस्थापना की जाए.