बिहार चुनाव के बीच कोरोना का फिर हुआ बड़ा अटैक

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | कोरोना काल में होने जा रहे बिहार विधान सभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग की गाइडलाइंस जारी कर उसका सख्ती से पालन करने का आदेश दिया था. लेकिन चुनावी आपाधापी में अधिकारी से लेकर आमजन तक बेपरवाह नजर आ रहे हैं. न चाहते हुए भी सत्ता के मोह में अधिकारी कोरोना से नहीं डर रहे.

राजधानी पटना में कोरोना संक्रमित के आंकड़े में इज़ाफ़ा देखा गया. राजभवन के चार, निर्वाचन आयोग के एक, आईएएस अधिकारी के रसोइया और जिला के सिविल सर्जन समेत 297 लोगों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. वही पटना के 2 समेत 5 संक्रमितों ने इलाज के दौरान दम भी तोड़ दिया है. जानकारी के मुताबिक करीब 1 महीने बाद एम्स में दोबारा भर्ती संक्रमितों की संख्या 200 हो गई है. इसके साथ ही यहां प्रतिदिन ठीक होने का दर भी घटकर 66 फीसदी हो गई है.

कोविड अस्पताल पटना एम्स में भर्ती पंचायती राज मंत्री कपिल देव कामत की हालत रविवार को थोड़ी और खराब हो गई. एम्स के कोरोना नोडल पदाधिकारी का कहना है कि मंत्री भर्ती होने के बाद से लगातार वेंटिलेटर पर हैं. उनकी हालत में 24 घंटे डॉक्टरों की टीम नजर रख रही है. इसके साथ ही बताया गया है कि हर दूसरे दिन डायलिसिस होने के साथ हृदय से ठीक से काम नहीं कर रहा इसके साथ ही बॉडी में ऑक्सीजन लेबल भी कम है.