PMCH और DMCH में ‘कोरोना जांच केंद्र’ का ट्रायल शुरू

पटना (TBN रिपोर्ट) | कोरोना संक्रमण के मामलों पर गंभीरता से कार्य कर रही बिहार सरकार के द्वारा राज्य में अब और अधिक से अधिक कोरोना जांच केंद्र बढ़ाने का फैसला किया है. प्रदेश में आरएमआरआई, पटना के बाद दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल, दरभंगा में कोरोना वायरस का जांच केंद्र बनाया जाएगा. जांच केंद्र बनाने को लेकर आईसीएमआर (नेशनल काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च), नई दिल्ली ने अपनी सहमति प्रदान कर दी है. इसके साथ ही पटना के पीएमसीएच और दरभंगा के डीएमसीएच में गुरुवार को इसका ट्रायल किया गया.

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने इस बारे में बात करते हुए बताया कि “बिहार में और ज्यादा कोरोना जांच केंद्र बन जाने से अधिक से अधिक कोरोना के संदिग्ध मरीजों की जांच की जाएगी”. आगे उन्होंने कहा कि “आईसीएमआर की सहमति के उपरांत ही किसी भी स्थान पर कोरोना वायरस का जांच केंद्र स्थापित किया जा सकता है. साथ ही, आईसीएमआर के नेशनल वॉयरोलॉजी लैब, पुणे से ही जांच के लिए आवश्यक किट उपलब्ध कराया जाता है”.

मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार को कोलकाता से आए इंजीनियरों के द्वारा पीएमसीएच के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में नई मशीन स्थापित करके डॉक्टरों को मशीन संचालन का प्रशिक्षण भी दिया गया. शुक्रवार से मशीन से कोरोना के जांच की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. इस बारे में अस्पताल अधीक्षक ने बताया कि “मशीन आईसीएमआर द्वारा उपलब्ध कराई गई है वहीं जांच की आईवीआर पुणे से आ रही है”.

गुरुवार को दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 24 नमूनों का ट्रायल रन करने के बाद इसकी रिपोर्ट इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च नई दिल्ली को भेज दी गयी है. इस रिपोर्ट के तुरंत बाद नियमित रूप से जांच की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. राज्य स्वास्थ्य समिति के अधिकारियों ने बताया कि “भागलपुर स्थित जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भी जांच केंद्र स्थापित करने का अनुरोध भारत सरकार से किया गया है जिस पर अभी विचार विमर्श चल रहा है”.

error: Content is protected !!