राजधानी में कोरोना मरीज का घर होगा अब कन्टेनमेंट जोन

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | कोरोना ने फिर से एक बार तेज़ी से अपना संक्रमण बढ़ाना शुरू कर दिया है. मंगलवार को प्रधानमंत्री ने देश के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये कोरोना पर चर्चा की. चर्चा में मुख्यमंत्रियों को कई अहम् निर्देश भी दिए.

इधर, बिहार में छठ के बाद कोरोना के केस में लगातार इज़ाफ़ा होने से राज्य सरकार ने कई ठोस कदम उठाने शुरू कर दिए है. अब राजधानी पटना में जिस घर में कोरोना के मरीज़ मिलेंगे, उसे कन्टेनमेंट जोन बनाया जायेगा. इस बाबत प्रशासन को लिखा गया है. मंगलवार को इसकी पुष्टि सिविल सर्जन डॉ. वीणा कुमारी सिंह ने की.

वहीं डीआईओ डॉ. एसपी विनायक ने बताया कि बजुर्ग, बीपी, शुगर या फिर अन्य गंभीर बीमारियों से पीड़ित कोरोना मरीज़ों को आइसोलेशन सेंटर में रहने की सलाह दी जा रही है. वे आइसोलेशन सेंटर में ही रहे, इस पर गंभीर से विचार किया जा रहा है. ऐसे मरीज़ों का होम आइसोलेशन में रहना ठीक नहीं है. इन्हें आइसोलेशन में रहने की इजाजत नहीं भी दी जा सकती है.

आइसोलेशन सेंटरों को भी फिर से एक्टिवेट किया जा रहा है. मकसद है कि यदि संक्रमण और बढ़ा तो आइसोलेशन सेंटर में मरीजों को रखा जा सके. जरूरत पड़ने पर अफरातफरी का माहौल न हो.

पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स और बामेती में बने आइसोलेशन सेंटर को फिलहाल हटा दिया गया है. जरूरत हुई तो यहां भी फिर से व्यवस्था होगी. अभी कंगनघाट, होटल पाटलिपुत्र अशोक, सगुना मोड़ और बिहटा के आइसोलेशन सेंटर को एक्टिव किया जाएगा. साथ ही मसौढ़ी, बाढ़ और दानापुर के अनुमंडलीय अस्पताल में भी आइसोलेशन सेंटर की सुविधा बहाल की जाएगी. इसकी पुष्टि डीआईओ डॉ. एसपी विनायक ने की. संक्रमित मरीज या परिजन कंट्रोल रूम या फिर टॉल फ्री नंबर पर संपर्क कर सकते हैं.