बाढ़: कॉलेज कैंपस में कोरोना गाइडलाइंस की उड़ी धज्जियां

बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट)| बिहार सरकार ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण (Corona pandemic) को देखते हुए नाइट कर्फ्यू (Night Curfew in Bihar) व अन्य बंदिशों को आगामी 6 फ़रवरी तक बढ़ा दिया है. साथ ही सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद रखने का आदेश दिया है. लेकिन दूसरी ओर कॉलेजों की परीक्षा और मैट्रिक के साथ इंटर की परीक्षा होने की बात भी कही है.

इधर बाढ़ के अनुग्रह नारायण सिंह कॉलेज (Anugrah Narayan Singh College, Barh) में इंटर एग्जाम के एडमिट कार्ड का वितरण हो रहा है. साथ ही कॉलेज में स्नातक पार्ट-2 में एडमिशन की भी प्रक्रिया चल रही है. ऐसे में छात्र-छात्राओं की भारी भीड़ कॉलेज कैंपस में दिखाई दे रही है.

इस दौरान यहां छात्र-छात्राओं के बीच कोई सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा है. सभी बिना मास्क के ही अपना एडमिट कार्ड लेने पहुंच रहे हैं और स्नातक पार्ट-2 में एडमिशन का काम कर रहे है.

विद्यार्थी परिषद के नेता गोविंदा के अनुसार कॉलेज प्रबंधन की तरफ से इस कोरोना काल में नियम-कानून का पालन कड़ाई से लागू नहीं करवाया जा रहा है. गोविंदा ने कहा कि सरकार ने कहा है कि कोरोना काल में भीड़-भाड़ से बचा जाए, मास्क का उपयोग करें, लेकिन यह सब सिर्फ कागजों पर रह गया है.

यह भी पढ़ें| कंधे पर पत्‍नी का श’व ले चलता बना, मामला संदिग्ध ?

विद्यार्थी परिषद के नेता ने कहा कि प्रिन्सपल अपने चैम्बर में बैठ कर कह देते हैं कि हमारे बच्चे सुरक्षित हैं और उनके लिए तमाम व्यवस्थाएं कर दी गई हैं. लेकिन वास्तविकता यह है कि कॉलेज कैंपस में कोरोना गाइडलाइंस का किसी तरह पालन नहीं हो रहा है. उन्होंने कहा कि इस तरह की स्थिति में यहां कोरोना महामारी फैल जाने की संभावना है. वैसे बता दें, मीडिया से बात करते वक्त गोविंदा ने भी कोई मास्क नहीं लगा रखा था बल्कि अपने गमछे को मास्क के रूप में इस्तेमाल किया हुआ था.

वहीं दूसरे छात्र विकास कुमार ने बताया कि कॉलेज कैंपस में कोई मास्क नहीं लगता है और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करता है. प्रिन्सपल साहब ऊपर से ही कह देते हैं कि मास्क पहन लो जिसका पालन नहीं होता है. ऐसे में कोरोना महामारी फैलने की पूरी संभावना है.