बिहार : एक दिन में कोरोना से सर्वाधिक 3 लोगों के मौतों की पुष्टि, आंकड़ा हुआ 19

पटना (TBN डेस्क) | शुक्रवार को बिहार में कोविड-19 संक्रमण से तीन लोगों की मौत की खबर आई. इनमें से 2 लोग श्रमिक स्पेशल ट्रेन से और 1 प्राइवेट गाड़ी से बिहार लौटे थे. इनमें से 1 शख्स सिवान का था जबकि 1 आरा का और 1 भागलपुर का था.

राजधानी के एनएमसीएच में इलाज के दौरान सीवान के एक बुजुर्ग की मौत हो गई. जबकि, आरा और भागलपुर से दोनों मौत के बाद उनकी रिपोर्ट कोविड-19 पॉजिटिव आई. इसके साथ ही राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 19 हो गई है.

बताते चलें की आरा के एक मजदूर की मौत 26 मई को ही हो गई थी. लेकिन उसकी जांच रिपोर्ट शुक्रवार को आई जिसमें वो कोविड-19 पॉजिटिव निकला. वह युवक कुछ दिनों पहले ही मुंबई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से लौटा था. आरा लौने के बाद वो तरारी प्रखंड में बने क्वारैंटाइन सेंटर में रह रहा था.

सेंटर पर ही उसकी तबीयत बिगड़ने पर उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया जहां इलाज के दौरान उसकी 26 मई को मौत हो गई थी. कोरोना संक्रमण की जांच के लिए उसका सैंपल पटना भेजा गया था. बिहार स्वास्थ्य विभाग ने मृतक मजदूर के संपर्क में आए सभी लोगों के जांच कराने के निर्देश दिए हैं.

दूसरी मौत आज शुक्रवार को हुई. मृतक सिवान, पनवारी के एक बुजुर्ग, नंद पांडे थे जो कुछ दिनों पहले प्राइवेट गाड़ी से मुंबई से लौट रहे थे. छपरा में रहने के दौरान उनकी तबीयत बिगड़ने पर उन्हें पीएमसीएच में भर्ती कराया गया. पीएमसीएच में उन्हें कोरोना के लक्षण मिलने पर एनएमसीएच रेफर कर दिया गया. कल यानि 28 मई को उस बुजुर्ग की जांच रिपोर्ट कोविड-19 पॉजिटिव आई थी. नन्द पांडे को लकवा, डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी थी.

शुक्रवार को संक्रमण पुष्टि वाले भागलपुर के मरीज के बारे में बताया जा रहा है कि वह मुंबई से लौट कर अपने घर में ही क्वारैंटाइन था. गुरुवार 28 मई को जब उसकी मौत हो गई तो ग्रामीणों ने उसे कोविड-19 संक्रमित होने की आशंका जताई. इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मृतक के सैंपल की जांच की जिसकी रिपोर्ट शुक्रवार को पॉजिटिव आई. भागलपुर जिले में कोरोना से मौत का यह पहला मामला है.

आपको बता दें की इन तीन मौतों से पहले पटना, वैशाली और खगड़िया के रहने वाले दो-दो मरीज; भोजपुर, जहानाबद, नालंदा, मुंगेर, सीतामढ़ी, मोतिहारी, सारण, सासाराम, सीवान और बेगूसराय के रहने वाले एक-एक मरीजों की मौत हो चुकी है.