किसानों और स्थानीय लोगों के बीच सिंघू बॉर्डर पर झड़प

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| सिंघू बॉर्डर प्रदर्शन स्थल पर शुक्रवार को आंदोलनकारी किसानों और खुद को स्थानीय निवासी बता रहे लोगों के बड़े समूह के बीच झड़प हो गई. इसके चलते पुलिस को लाठी जार्च करना पड़ा और आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े.

दरअसल, स्थानीय निवासी होने का दावा कर रहे लोगों का समूह वहां इलाके को खाली कराने के लिए पहुंचा था.

एक अधिकारी ने बताया कि एक व्यक्ति ने दिल्ली पुलिस के अलीपुर थाना प्रभारी (एसएचओ) प्रदीप पालीवाल पर तलवार से हमला किया, जिसके बाद वह घायल हो गये. कुछ अन्य लोग भी घायल हुए हैं.

उन्होंने बताया कि स्थानीय लोग मांग कर रहे थे कि किसान सिंघू सीमा पर प्रदर्शन स्थल को खाली करें क्योंकि उन लोगों ने गणतंत्र दिवस पर ‘‘ट्रैक्टर परेड’’ के दौरान राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किया.

उन्होंने बताया कि डंडों से लैस स्थानीय लोगों का समूह प्रदर्शन स्थल पर पहुंचा और किसानों के खिलाफ नारे लगाते हुए उनसे वहां से जाने को कहा. दोनों पक्षो ने एक-दूसरे पर पथराव भी किये.

सिंघू बॉर्डर प्रदर्शन स्थल पर काफी हद तक बाहर से प्रवेश रोका गया है, लेकिन स्थानीय लोगों का प्रतिरोध करने के लिए बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी वहां आ रहे थे.

यह भी पढ़ेंपीएमसी ने यहां बोतलबंद पानी का उपयोग किया बैन

हालांकि, किसान यूनियन के स्वयंसेवियों ने उन्हें फौरन रोक दिया, जिससे स्थिति ज्यादा उग्र नहीं हो पाई.

पंजाब के रहने वाले हरकीरत मान बेनीवाल ने कहा, ‘‘वे स्थानीय लोग नहीं हैं, बल्कि भाड़े पर बुलाये गये गुंडे हैं. वे लोग हम पर पथराव कर रहे थे और पेट्रोल बम फेंक रहे थे. उन्होंने हमारी ट्रॉली भी जलाने की कोशिश की। हम उनका प्रतिरोध करने के लिए यहां हैं.’’
( इनपुट- आर भारत से )