कोरोना के बीच चमकी ?

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) :- बिहार में कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रभाव अभी भी कम होने का नाम नहीं ले रहा है. इस बीच बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से एक बुरी खबर आ रही है. ताज़ा खबर के अनुसार मुजफ्फरपुर जिले में एईएस, यानि चमकी बुखार ने भी दस्तक दे दी है. मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से एक बच्चे की मौत हो गई है,वहीं दो बच्चे अस्पताल में भर्ती हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिछले दिनों अपने आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक की थी जिसमे कोरोना, बर्ड फ़्लू , स्वाइन फ़्लू और चमकी बुखार से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन को तैयार रहने को कहा था. अब मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने आज चमकी बुखार से सर्वाधिक प्रभावित चार जिलों के लिए 18 एंबुलेंस को रवाना किया. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा गया. स्वास्थ्य मंत्री ने मुजफ्फरपुर के लिए 9, पूर्वी चंपारण 4, दरभंगा 3 और सारण के लिए BLS एंबुलेंस रवाना किया.

बता दें “एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम” को बोलचाल की भाषा में लोग चमकी बुखार कहते हैं. इस संक्रमण से ग्रस्त रोगी का शरीर अचानक सख्त हो जाता है और मस्तिष्क व शरीर में ऐठंन शुरू हो जाती है. आम भाषा में इसी ऐठन को चमकी कहा जाता है, बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में पिछले वर्ष भी  चमकी बुखार का  कहर बरपा था. इस खतरनाक बुखार की चपेट में आकर सैंकड़ों बच्चों ने अपनी जान गवाई थी  स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और चिकित्सकों ने कोरोना वायरस के प्रभाव के बीच चमकी बुखार से पीड़ित बच्चे के मिलने पर चिंता जताते हुए विशेष ख्याल रखने की सलाह दी है. इसके साथ ही मुजफ्फरपुर में चमकी का ज्यादा प्रभाव देखते हुए ज्यादा एंबुलेंस उपलब्ध कराई गयी हैं.