भाई-बहन को जिंदा जलाया, ऐसा क्या हुआ कि 46 दिन बाद पीड़िता के घर पहुंचे डीएम ?

दरभंगा (TBN – The Bihar Now डेस्क)| पिछले महीने जमीन के विवाद में भाई-बहन को जिंदा जलाने की घटना से दरभंगा दहल उठा था. इसके बाद बिहार में कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर कई सवाल उठने लगे थे. दरभंगा पुलिस (Darbhanga police) की लापरवाही से भाई-बहन को जान गंवानी पड़ी. आर्थिक रूप से पिछड़े इस परिवार की मदद के लिए अब दरभंगा जिला प्रशासन आगे आया है.

इसी क्रम में मंगलवार को जिलाधिकारी राजीव रोशन (Darbhanga District Magistrate Rajiv Roshan) व दरभंगा जिला अपर सत्र न्यायाधीश सह जिला विधिक प्राधिकार के सचिव जावेद आलम (Darbhanga District Additional Sessions Judge cum Secretary of District Legal Authority, Javed Alam) जख्मों को भरने के लिए पीड़ित परिवार के दरभंगा स्थित आवास पहुंचे.

दोनों अधिकारियों ने पहले पीड़ित परिवार को किसी भी स्थिति में प्रशासन के साथ खड़े होने का आश्वासन दिया और फिर एक-एक लाख रुपये के दो चेक देकर उनकी आर्थिक मदद की. साथ ही पीड़ित परिवार के बारे में पता किया.

पीड़ित परिवार ने जिलाधिकारी को बताया कि अब भी लोग मामले को उठाने की धमकी देते हैं. साथ ही इससे भी बड़ी घटना को अंजाम देने की धमकी देते हैं. ऐसे में उनकी जान अभी भी खतरे में है, इसलिए पूरे परिवार के जान-माल की सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए जाएं. साथ ही उन्होंने फरार आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की भी मांग की.

मीडिया से बात करते हुए दरभंगा के जिलाधिकारी राजीव रोशन ने पीड़ित परिवार को पीड़ित मुआवजा अधिनियम से आर्थिक सहायता की पुष्टि की. उन्होंने बताया कि पीड़ित परिवार ने कुछ मांगें रखी हैं. परिवार की मांगों पर उनकी सुरक्षा के साथ-साथ परिवार को न्याय दिलाने के लिए जिला प्रशासन और जिला पुलिस लगातार काम कर रही है.

यह भी पढ़ें| जमीन विवाद में झुलसे भाई-बहन की हुई मौत, 17 फरवरी को दरभंगा बंद का ऐलान

वहीं, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव जावेद आलम ने बताया कि फिलहाल पीड़ित परिवार को एक-एक लाख के दो चेक दिए जा चुके हैं. भविष्य में भी परिवार की आर्थिक मदद की जाएगी. इसके अलावा उन्होंने बताया कि परिवार को मुफ्त में कानूनी सलाह भी दी जा रही है.

जावेद आलम ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि पीड़ित परिवार को पीड़ित मुआवजा अधिनियम के तहत यह आर्थिक मदद दी गई है. इसमें दो लोगों की आग लगने से मौत हो गई, ऐसे में परिवार को और आर्थिक मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ें| दरभंगा ट्रिपल मर्डर केस का मुख्य आरोपी गिरफ़्तार

बताते चलें, 10 फरवरी को दरभंगा में दिल दहला देने वाली घटना हुई थी जिसमें जमीन के विवाद में दो लोगों को जिंदा जला दिया गया था. बाद में दोनों पीड़ित भाई-बहनों की पटना के पीएमसीएच में मौत हो गई. घटना के बाद पूरे मामले में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी. घटना के मीडिया की सुर्खियों में आने के बाद मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया, लेकिन आज भी कई आरोपी पुलिस हिरासत से बाहर हैं.