ब्रेकिंग: पीएमसीएच के प्रिसिंपल ने 180 मेडिकल स्टूडेंट्स को किया सस्पेंड!

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| ब्रेकिंग खबर राजधानी से आ रही है जहां पीएमसीएच के इतिहास में पहली बार 180 मेडिकल स्टूडेंट्स को एक साथ 15 दिनों के लिए सस्पेन्ड किया गया है. स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर पीएमसीएच के प्रिसिंपल ने यह कार्यवाई की है.

बता दें, पीएमसीएच के इन मेडिकल स्टूडेंट्स ने ओपीडी सेवा बाधित करने की कोशिश की थी. इससे कोरोना की संभावित तीसरी लहर के दहशत और वाइरल बुखार से ग्रसित लोगों की परेशानी बढ़ गई थी. इन स्टूडेंट्स के हड़ताल से बार बार ओपीडी सेवा बाधित हो रही थी और करीब 500 मरीजों का इलाज नहीं हो पाया था. इसी के आरोप में स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें क्लास से 15 दिनों के लिए सस्पेन्ड करने का निर्देश प्रिंसिपल को दिया.

पीएमसीएच के प्रिसिंपल डॉ. वीपी चौधरी ने बताया कि इन स्टूडेंट्स द्वारा बार-बार ओपीडी बंद कराया जा रहा था जिससे व्यवस्था बाधित और मरीज परेशान हो रहे थे. ये मेडिकल स्टूडेंट्स अपने हड़ताल से मरीजों के इलाज में बाधा डाल रहे थे.

उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर पीएमसीएच (PMCH) प्रशासन की तरफ से एमबीबीएस (MBBS) के फर्स्ट ईयर स्टूडेंट्स को 15 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया है. इनकी संख्या 180 है और अब वो सेकेंड इयर में हैं.

Also Read| ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम में सीएम ने सुनी 167 शिकायतें

प्रिसिंपल डॉ चौधरी ने बताया कि सभी सस्पेन्ड किये गए 180 स्टूडेंट्स न ही क्लास कर सकते हैं और न ही हॉस्टल में रह सकते हैं. सस्पेन्शन अवधि के खत्म होने के बाद ये सभी स्टूडेंट्स एक ऐफिडेविट के साथ क्लास जॉइन कर सकते हैं. इस ऐफिडेविट में सभी स्टूडेंट्स यह शपथ लेंगे कि भविष्य में उनके द्वारा ऐसी गलती दुबारा नहीं की जाएगी. उन सबों को उस दिन अपने साथ अपने गार्जियन को भी लाना होगा.

अपने गार्जियन के सामने शपथ-पत्र देने के बाद ही सस्पेन्ड किये गए स्टूडेंट्स को क्लास करने की अनुमति दी जाएगी. उन्हें उसके बाद ही हॉस्टल में भी रहने को दिया जाएगा. प्रिसिंपल ने इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग सहित पटना के जिलाधिकारी को भी लिखित सूचना दे दी है.