गड्ढा खोदे जाने के कारण 6 दिन पहले उद्घाटित बोरिंग पम्प भवन धराशायी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राजधानी में नवनिर्मित हाई फ्लो वाटर सप्लाई बोरिंग पंप का भवन, जिसका उद्घाटन महज 6 दिनों पहले हुआ था, शनिवार अहले सुबह अचानक ढह गया. भवन गिरने से आसपास के मकान हिल गए और विद्युत सेवा बाधित हो गई. इससे स्थानीय लोगों के बीच अफरातफरी मच गई और वे किसी अनहोनी आशंका से ग्रसित होकर घरों के बाहर निकल गए.

मामला शहर के मालासलामी थाना क्षेत्र, वार्ड संख्या 69 के भैसानी टोला स्थित बस स्टैन्ड का है. यहां पटना नगर निगम की मेयर सीता साहू द्वारा 19 जून को 1.12 करोड़ रुपये की लागत से नवनिर्मित सप्लाई बोरिंग पंप का उद्घाटन किया गया था. इस भवन के ढह जाने से पंप ठप हो गया.

जल पर्षद के सहायक अभियंता विनोद कुमार तिवारी ने बताया कि भवन के गिर जाने से पंप ठप हो गया है. बोरिंग पंप ठप होने से एक दर्जन मोहल्लों में करीब 20 हजार की आबादी के सामने पेयजल संकट व्याप्त हो गया है.

स्थानीय लोगों ने बताया कि पंप हाउस के ठीक बगल में भवन निर्माण विभाग द्वारा एक सामुदायिक भवन का निर्माण कराया जा रहा है. इस काम में लगी एजेंसी द्वारा मिट्टी कटाई में लापरवाही बरती गई जिस कारण यह घटना घटी.

वहीं, इस मौके पर स्थानीय वार्ड पार्षद विकास कुमार ने भवन निर्माण विभाग की एजेंसी पर अधिक मिट्टी काटने का आरोप लगाते हुए कहा कि बोरिंग भवन के ढहने का कारण मिट्टी की अधिक कटाई है. पार्षद ने कहा कि एजेंसी द्वारा मिट्टी की कटाई को लेकर मानक का उपयोग नहीं किया गया.

वार्ड पार्षद ने बताया कि शुक्रवार की रात में लगभग 12 बजे भी भवन निर्माण विभाग के लोगों द्वारा जेसीबी से खोदे जा रहे गड्ढे को भैसानी टोली के बोरिंग पंप की ओर नहीं खोदने का आग्रह किया था. इसके बाद काम बंद हो गया था.

पार्षद ने बताया कि रात में लगभग तीन बजे से जेसीबी से फिर से खुदाई का काम शुरू किया गया. इसी क्रम में अधिक गड्ढा होने के कारण बोरिंग पंप का भवन जमींदोज हो गया. इसके गिरने से नीचे का पेयजल पाइप फट गया जिस कारण सामुदायिक भवन के गड्ढे में पनि भर रहा है.

इस मामले पर भवन निर्माण विभाग के अधिकारी मामले में कुछ भी बोलने से बचते रहे. वहीं, मौके पर मौजूद जल बोर्ड के कार्यपालक अभियंता सुजीत कुमार ने भवन निर्माण विभाग की एजेंसी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की बात कही है. जल बोर्ड व भवन निर्माण विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच कर पूरे मामले की जांच शुरू कर दी.

मौके पर मौजूद भवन निर्माण विभाग के कनिष्ठ अभियंता जुगनू कुमार चौरसिया ने सामुदायिक भवन का निर्माण कर रही एजेंसी, दीपांशु प्रमोटर एंड बिल्डर्स प्राइवेट लिमिटेड जानबूझकर अधिक मिट्टी काटने की बात से साफ इनकार किया है.