भागलपुर बम धमाका: क्या इन धमाकों के पीछे कोई आतंकी साजिश है ?

भागलपुर / पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| भागलपुर शहर के तातारपुर थाना क्षेत्र के काजबली चक में भागलपुर बम विस्फोट (BHagalpur Blast Matter) में अब तक चार अलग-अलग परिवारों के 12 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं 12 से ज्यादा लोग घायल हैं. विस्फोट के बाद से स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल है.

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने इस घटना पर दुख जताते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar Chief Minister) से बात की है. हर कोई इस घटना के पीछे की असली वजह जानना चाहता है कि आखिर ये धमाका क्यों हुआ? क्या यह पटाखों के निर्माण के दौरान हुआ था, या कोई बम बनाया जा रहा था? इन सभी बिंदुओं पर पुलिस की जांच जारी है.

इधर पुलिस को घटना स्थल के मलबे से 5 किलो बारूद और बड़ी संख्या में लोहे की कीलें मिली हैं. इस वजह से पुलिस इस ब्लास्ट के मामले को बम ब्लास्ट के एंगल से भी जांच कर रही है. आपको बता दें कि कुछ दिन पहले आईबी ने भागलपुर पुलिस को भी अलर्ट किया था.

यह भी पढ़ें| भागलपुर विस्फोट में एक बच्चा सहित 7 मरे, नीतीश ने की संवेदना व्यक्त

इस बीच, पुलिस ने संकेत दिया है कि विस्फोट बम बनाने के दौरान हुआ था. भागलपुर के एसएसपी बाबू राम ने बताया कि शुरुआती जांच में पता चला है कि बम बनाते समय धमाका हुआ था. एसएसपी बाबूराम ने प्रारंभिक जांच के बाद बताया कि यहां तीन लोग पटाखे बनाते थे. इसमें अचानक हुए विस्फोट से चार घर ढह गए और लोग मलबे के नीचे दब गए. एफएसएल की टीम जांच कर रही है. पूरी रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा कि यह किस तरह का विस्फोटक था.

पुलिस मुख्यालय अलर्ट पर, एटीएस कर सकती है जांच

इस मामले को लेकर बिहार पुलिस मुख्यालय भी अलर्ट पर है और पुलिस मुख्यालय ने भागलपुर के एसएसपी बाबू राम को हर बिंदु पर विस्फोट की पूरी जांच कर जल्द विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा है. एडीजी लॉ एंड ऑर्डर संजय सिंह ने यह जानकारी दी है.

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर संजय सिंह के मुताबिक, शुरुआती जांच में पता चला है कि धमाका पटाखा फैक्ट्री में हुआ, लेकिन जिस तरह का धमाका हुआ उसने कई सवाल खड़े किए हैं.

फिलहाल इसकी जांच भागलपुर पुलिस और एफएसएल की टीम कर रही है. जरूरत पड़ी तो एटीएस भी करेगी. एडीजी ने यह भी कहा कि हाल के दिनों में भागलपुर और आसपास के जिलों में सिलसिलेवार बम और विस्फोट चिंता का विषय हैं.

(इनपुट-न्यूज 18)