लगातार बढ़ रहा गंगा समेत इन नौ नदियों का जलस्तर, बाढ़ के डर से दहसत

Patna (TBN – The Bihar Now डेस्क) | एक ओर जहां बिहार कोरोना से जंग लड़ रहा वहीं दूसरी ओर बिहार के एक दर्जन से अधिक जिलों में लोगों पर बाढ़ कहर बनकर टूट पड़ी है. आलम ये है कि 14 जिलों के 114 प्रखंडों के 1098 पंचायतों की 59 लाख 70 हजार लोग बाढ़ से प्रभावित हो गए हैं. आपदा प्रबंधन विभाग के अपर सचिव रामचंद्रडु के अनुसार एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 31 टीमें बाढ़ प्रभावितों के बचाव और राहत कार्य में लगाई गई हैं. विभिन्न जिलों में 1365 सामदायिक किचेन चलाए जा रहे हैं, जहां से प्रतिदिन साढ़े नौ लाख से अधिक लोगों को भोजन कराया जा रहा है. वहीं 17 राहत केंद्र अभी चल रहे हैं, जहां पर 18 हजार लोग रह रहे हैं. आपदा विभाग के अनुसार राज्य में 19 लोगों की मृत्यु हुई है. इनमें दरभंगा के सात, मुजफ्फरपुर के छह, पश्चिम चंपारण के दो और सवान के दो लोग शामिल हैं. वहीं 20 पशुओं की भी मौत बाढ़ की जद में आने से हो गई है.

इस बीच कई नदियों का जलस्तर लगातार डरा रहा है. गंगा समेत नौ नदियां अब भी कहीं ना कहीं लाल निशान से ऊपर बह रही हैं. गंगा का बढ़ना जारी है. गुरुवार को भी इस नदी के जलस्तर में बक्सर से कहलगांव तक 3 से 12 सेमी की वृद्धि दर्ज की गई. पटना में यह नदी लाल निशान से मात्र 46 सेमी नीचे है. कहलगांव में लाल निशान को पार कर गई है. इस बीच गंडक और कोसी का डिस्चार्ज भी गुरुवार को नेपाल में हुई वर्षा के कारण कुछ बढ़ गया है.

कोसी नदी में पानी का डिस्चार्ज गुरुवार को बराह क्षेत्र में 1.30 से बढ़कर 1.62 और बराज पर 1.66 लाख घनसेक दर्ज किया गया. वाल्मीकिनगर बराज पर गंडक का डिस्चार्ज भी 1.72 लाख घनसेक पहुंच गया. कोसी बलतारा और कुरसेला में लाल निशान से ऊपर है. गंडक भी डुमरियाघाट में लाल निशान से ऊपर है. बूढ़ी गंडक रोसड़ा रेलपुल के पास थोड़ा नरम हुई है. गुरुवार को वहां नदी लाल निशान से 3.43 मीटर ऊपर बह रही है. समस्तीपुर रेलपुल के पास लाल निशान से यह नदी 2.22 मीटर ऊपर है.

बागमती सीतामढ़ी के कटौंझा में लाल निशान से 1.72 मीटर ऊपर बह रही है. दरभंगा में यह नदी अब भी लाल निशान से दो मीटर 30 सेमी मीटर ऊपर बह रही है. कमला नदी जयनगर में लाल निशान से 30 सेमी ऊपर है. झंझारपुर में भी 1.20 मीटर ऊपर है.

लालबकेया पूर्वी चम्पारण में लाल निशान से नीचे आ गई है. अधवारा सीतामढ़ी में घटकर लाल निशान से 40 सेमी ऊपर बह रही है. खिरोई नदी दरभंगा में 2 मीटर से ज्यादा ऊपर है. महानंदा किशनगंज और पूर्णिया दोनों जगह नीचे आ गई है. अलबत्ता घाघरा मंगलवार को एक बार फिर सीवान में लाल निशान से 86 सेमी ऊपर बहने लगी है.