बाढ़ शहर स्थित यह बेकरी कारखाना बना परेशानी का सबब

बाढ़ (अखिलेश कु सिन्हा – The Bihar Now रिपोर्ट)| बाढ़ के रिहायशी इलाके में शुमार दयाचक मुहल्ले में एक बेकरी कारखाना वर्षों से आमलोगों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है. इस बेकरी कारखाने ने स्थानीय लोगों को परेशानी में डाल रखा है.

इस कारखाने से निकलने वाली कर्कश ध्वनि और जहरीली गैसों की बदबू से जहां एक तरफ लोगों का जीना मुहाल है, वहीं दूसरी ओर लोग आए दिन अनिद्रा, हाइपरटेंशन और हृदय रोग जैसे जानलेवा बीमारियों के चपेट में आ रहे हैं.

आपने यह पढ़ा क्या – पूर्व निर्दलीय उम्मीदवार के साथ मारपीट

इस बाबत पीड़ित पक्ष की ओर से लंबे समय से कागज़ी लड़ाई लड़ी जा रही है. बताया जाता है कि बाढ़ नगर परिषद ने 2009 में अपनी जांच रिपोर्ट में इस कारखाने को बंद करने का आदेश तक दिया, लेकिन कारखाने के मालिक अरुण साव के रसूख के आगे किसी की कुछ नहीं चली. हालांकि कारखाने मालिक का तर्क है कि उनके पास प्रदूषण विभाग का सर्टिफिकेट है.

वहीं कारखाने मालिक के तर्क को खारिज करते हुए पीड़ित पक्ष की ओर से दिलीप कुमार का कहना है कि रिहायशी इलाके में चल रहा यह बेकरी कारखाना कई लोगों को गंभीर बीमारियों को चपेट में ले लिया है और कर्कश ध्वनि के साथ-साथ आबोहवा जहरीली होने की वजह से आसपास स्थित घरों के कमरों में भी घुटन होती है. हालत के मद्देनजर आलाधिकारियों समेत मुख्यमंत्री तक विधि सम्मत कार्रवाई हेतु गुहार लगाई गई है.