मार्कशीट के बदले जबरन वसूली कर रहा ये प्रधानाध्यापक

बगहा (इमरान अजीज – The Bihar Now रिपोर्ट) | कोरोना काल में वैसे तो सभी की रोज़गार पर टाला लग गया है. ऐसे में शिक्षा के मंदिर में आपदा को अवसर में बदलने का इससे बड़ा उदाहरण देखने को नही मिलेगा.

बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के बगहा प्रखण्ड-1 के बड़गांव स्थित राजकीय उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय के प्रधान अध्यापक नागेंद्र द्विवेदी द्वारा अंक पत्र, प्रमाण पत्र और एसएलसी देने के नाम पर छात्र-छात्राओं से जबरन 150 से 200 रुपये वसूलने का मामला सामने आया है.

गौरतलब है कि दसवीं के छात्र-छात्राओं ने ऑनलाइन नामांकन के लिए अप्लाई करना है. इसके लिए उन्हें इन प्रमाण पत्रों की जरूरत है और ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 12 अगस्त है. लेकिन इन स्कूली बच्चों का आरोप है कि इन प्रमाण पत्रों के लिए उनसे जबरन वसूली कर रहे थे प्रधान शिक्षक.

इस पूरी घटना को कैमरे में क़ैद कर छात्र-छात्राओं ने खूब हंगामा किया. इस मामले के बारे में पूछे जाने पर प्रधान अध्यापक ने सिरे से पल्ला झाड़ लिया और अपनी मजबूरियों को गिनाना शुरू कर दिया कि अकेले हैं, मिडिल स्कूल के हेड हैं और हाई स्कूल के प्रभार में हैं, ऊपर से संडे है, फिर भी मैं छात्रों को सर्टिफिकेट देने आया हुआ हूँ.