हाजीपुर में भी होगी सुपर 30 की शुरुआत

 

हाजीपुर (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट)| देश और विश्व भर में चर्चित सुपर-30 के संस्थापक आनंद कुमार के नाम से सभी परिचित हैं. आनंद कुमार एक भारतीय गणितज्ञ, शिक्षाविद तथा बहुत सी राष्ट्रीय तथा अन्तरराष्ट्रीय गणित की पत्रिकाओं के स्तम्भकार हैं. आनंद कुमार के द्वारा आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों को आईआईटी संयुक्त प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए पटना में  सुपर 30 की शुरुआत की गयी थी.

आनंद कुमार रविवार को मड़ई रोड स्थित डॉ.बी झा मृणाल कैम्पस में एक स्कूल के उद्घाटन के लिए मुख्य अतिथि के रूप पहुंचे थे. उद्घाटन करने के पश्चात आनंद कुमार ने छात्रों और उपस्तिथ जनों को संबोधित करते हुए कहा कि “कठिन परिश्रम के साथ इरादे अच्छे हों तो जीवन में निश्चित रूप से सफलता मिलती है. गरीबी से निकलने और विकास के लिए बच्चों को शिक्षित बनाना जरूरी है. शिक्षा ही एक ऐसा साधन है,जिसके जरिए सबकुछ हासिल किया  जा सकता है. बच्चों को शिक्षित कर राज्य व देश के गरीब परिवार के लोगों की स्थिति में व्यापक सुधार किया जा सकता  है. साथ ही राज्य और देश को विकसित बनाया जा सकता है”. आगे हाजीपुर में सुपर-30  की शुरुआत को लेकर उन्होंने कहा  “गरीब बच्चों को पढ़ाने का सिलसिला जारी रखते हुए सुपर-30 का और विस्तार किया जाएगा. हाजीपुर में भी पटना की तरह सुपर-30 शुरू होगा.  इसी सत्र से इस स्कूल में सुपर-30 की परीक्षा ली जाएगी. स्कूल का मुख्य उद्धेश्य पैसा कमाना नहीं बच्चों को शिक्षित कर भविष्य निर्माण होना चाहिए. आगे उन्होंने कहा कि कई देशों में बुलावे पर जाने में जितनी खुशी नहीं मिली थी,उससे अधिक आज हाजीपुर में आने पर मिली है”.

समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में  केमिस्ट्री के ए.रहमान,आईसीआर के पूर्व डॉयरेक्टर व मखाना मैन डॉ. जर्नादन,आईएसएस अधिकारी मनीष कुमार,बिहार के वरिष्ठ सीआईएसएस अधिकारी मनीष कुमार, हाजीपुर के विधायक अवधेश सिंह ,वरिष्ठ सीए सीएस प्रसाद,राज नारायण कॉलेज के प्रो.एम एन दास,डॉ.बलिराम राय,एसएनएस कॉलेज के डा. सत्येन्द्र कुमार, डॉ.ओम प्रकाश चौरसिया,डॉ.सुचिता चौधरी,डॉ.एनके सिंह,आईएमए के सचिव डॉ.मधुसूदन सिंह,डॉ.विनोद कुमार,डॉ राजेश कुमार,भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं अधिवक्ता उमेश प्रसाद शाही,रेल यात्री सुख-सुविधा के सदस्य डॉ.अजीत कुमार आदि ने अपने विचार व्यक्त किए. अंत में  स्कूल के प्राचार्य आर. मैथ्यू के द्वारा  धन्यवाद ज्ञापन दिया गया

आनंद कुमार की क़ाबलियत किसी से छुपी नहीं है. सुपर-30 में पढ़ने वाले छात्र भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के लिये चयनित होते हैं . आनंद कुमार को संयुक्त राज्य अमेरिका के मैसच्युसेट्स प्रौद्योगिकी संस्थान तथा हार्वर्ड विश्वविद्यालय द्वारा उनके कार्यों पर बोलने के लिये निमंत्रण मिला था. इसके साथ ही उनकी उपलब्धियों पर डिस्कवरी चैनल के द्वारा एक लघु फ़िल्म बनाई गयी और भारतीय सिनेमा में भी सुपर 30 के नाम से आई फिल्म आनंद कुमार के जीवन पर ही आधारित थी.