Big NewsBreakingअपना शहरकाम की खबरफीचर

फसल नष्ट करने वाले किसान को मिली मंत्री की मदद, मिले दस गुना अधिक दाम

समस्तीपुर / पटना / नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now रिपोर्ट)| समस्तीपुर जिले के मुक्तापुर गांव के किसान ओम प्रकाश यादव की सहायता के लिए केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद आगे आए हैं. मंत्री की पहल पर कॉमन सर्विस सेण्टर ने इस किसान की मदद की है और उसके उपज को अधिक मूल्य पर खरीदा है.

मंगलवार को मीडिया में एक खबर प्रसारित हुई थी जिसमें समस्तीपुर के मुक्तापुर गाँव के एक किसान ओम प्रकाश यादव द्वारा अपनी फसल को खेत में ही नष्ट किये जाने का मामला प्रकाश में आया था. दरअसल उक्त किसान को अपने खेत में उगाई गोभी की फसल का स्थानीय आढ़त में मात्र एक रुपया प्रति किलो भाव मिल रहा था. इससे किसान काफी दुखी हो अपने खेतों में तैयार गोभी के फसल पर ट्रैक्टर चला कर उसे नष्ट कर दिया था.

मीडिया के मार्फत जब इस मामले की जानकारी केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद तक पहुँची, तब उन्होंने अपने विभाग के कॉमन सर्विस सेंटर को निर्देश दिया कि इस किसान को संपर्क कर इनकी फसल को देश के किसी भी बाज़ार में उचित मूल्य पर बेचने का प्रबंध किया जाये. इस बात की जानकारी मंत्री ने खुद अपने ट्वीट के माध्यम से दी है.

मंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा है कि कॉमन सर्विस सेण्टर ने इस किसान की मदद की जिसके बाद उसकी फसल को डिजिटल प्लेटफॉर्म ई-किसान मार्ट पर इस किसान को दिल्ली के एक खरीदार ने दस रूपये प्रति किलो का मूल्य ऑफर किया.

मंत्री ने आगे ट्वीट में लिखा कि किसान और खरीददार की आपसी सहमति के बाद, कुछ ही घंटों में किसान के बैंक खाते में आधी राशि एडवांस के रूप में पहुँच गई. और आज सुबह पूरी फसल के ट्रक पर लोड होते ही बची हुई राशि भी किसान के बैंक खाते में जमा हो गई है, और समस्तीपुर की गोभी दिल्ली के लिए रवाना हो गई है.

एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार इस पूरी प्रक्रिया में ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था भी खरीददार के द्वारा ही की गई और ट्रांसपोर्ट का पूरा खर्च भी खरीददार ने ही वहन किया, न कि किसान ने. इस पहली खेप में किसान ने चार टन गोभी दिल्ली के खरीददार को बेची है, जिसके लिए उसे स्थानीय मंडी से दस गुना अधिक दाम भी मिला जिसका पेमेंट सीधा उसके बैंक अकाउंट में तुरंत ही प्राप्त हो गया.

मंत्री ने बताया है कि कॉमन सर्विस सेण्टर ने एक स्टार्टअप एग्री-टेन-एक्स के साथ मिल कर किसान ई-मार्ट नाम का डिजिटल प्लेटफॉर्म बनाया है जिसके द्वारा किसान अपने फसल के लिए देश भर के खरीददारों से संपर्क कर अपनी फसल बेच सकते हैं. इसमें खरीददार तय मूल्य पर सीधा किसान के खेत या भण्डार से उपज को ट्रांसपोर्ट भेज कर उठा लेता है जिस से किसान को अपनी उपज मंडी तक ले जाने की भी जरूरत नहीं रहती है.

रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट के माध्यम से कहा, “अब नरेंद्र मोदी सरकार के नए कृषि कानूनों ने किसान को अपनी फसल कहीं भी बेचने की आज़ादी दे दी है. बिहार का ये किसान जिसे स्थानीय मंडी में मिल रहे दाम से निराश हो कर अपनी फसल नष्ट करने पर मजबूर होना पड़ा था, अब स्थानीय दाम से दस गुना अधिक दाम पर दिल्ली में अपनी फसल बेच पाया है.