PM मोदी का लिट्ठी-चोखा और कनेक्शन विथ बिहार इलेक्शन

लखनऊ (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट)-  राजनीति में भी रोज़ाना अजब गजब किस्से सुनने और नए नए नज़ारे देखने को मिलते रहते हैं. ऐसा ही पिछले दिनों बुधवार को देखने को मिला जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक से राजपथ पर चल रहे हुनर हाट में पहुंच गए थे. हुनर हाट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के एक स्टॉल पर लिट्टी चोखा खाया था. इसके बाद विपक्षी पार्टी कयास लगाने लगी थीं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नज़र अब लिट्ठी-चोखा के जरिये बिहार पर है और पीएम मोदी का अगला टारगेट अब बिहार है.

आज 22 फरवरी को 5वे “हिन्दुस्तान शिखर समागम” कार्यक्रम में भाग लेने के लिए केंद्रीय महिला एवं बाल विकास व कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में पहुंची थीं. हिन्दुस्तान शिखर समागम के पहले सत्र में पहुंचकर स्मृति ईरानी ने कहा कि “दिल्ली के हुनर हाट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिट्ठी-चोखा क्या खा लिया सबकी नजर अब बिहार पर पड़ गई है”.

विभिन्न मुद्दों पर बोलते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि “मुझे लगता है कि गोद में खेलते हुए बच्चे को सिखाया जाता है कि प्रधानमंत्री का कत्ल कर देंगे तो वह ममता की परिभाषा नहीं है. जब बच्चों से कहा जाता है कि देश के संविधान को नहीं मांनेगे तो यह ममता नहीं है. गोद लिए बच्चे की मौत हो जाए तो यह जिहाद नहीं है”?

स्मृति ईरानी ने वारिस पठान के विवादित बयान पर निशाना साधते हुए कहा कि “हिन्दुस्तान में बेटियों का बलात्कार किया जाता है, तो मेरा यह गौरव है कि मैं मोदी के नेतृत्व में उनको और उनके परिवार को शरण दूं. एक हिन्दुस्तान होने के नाते यह मेरा गौरव है जो पाकिस्तान, बांग्लादेश की अल्पसंख्यक महिलाओं को शरण दे. स्मृति ईरानी ने कहा कि मैं उन्हें क्या समझाऊं जो पीएम मोदी की हत्या की बात करते हैं. मैं उन्हें क्या समझाऊं जो कहते हैं कि 15 करोड़ सौ करोड़ पर भारी हैं. मोदी का कत्ल होगा, वहां ऐसा बुलवाया जा रहा है. देश की आहूति देने की योजना बना रहें है लेकिन आप स्वाहा होंगे. उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान सबका है, माइनॉरिटी, मेजोरिटी कुछ नहीं”.