भागलपुर में प्लाज्मा थेरेपी का दिया गया प्रस्ताव

भागलपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार में कोरोना संक्रमण की भयावहता को देखते हुए पटना के बाद अब भागलपुर प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना पॉजिटिव मरीजों के इलाज की तैयारी शुरू हो गयी है. बता दें कि पटना के बाद दूसरे नंबर पे भागलपुर कोरोना का हॉटस्पॉट बना है. यहाँ रोज़ कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे है.

स्थिति की गंभीरता को मद्दे नज़र रखते हुए भागलपुर मायागंज अस्पताल ने सरकार से आदेश लेने के लिए पत्र भेजा है.

मायागंज अस्पताल स्थित कोविड आइसोलेशन सेंटर के नोडल पदाधिकारी डॉ.हेम शंकर शर्मा ने बताया कि इस समय जिले में कोरोना संक्रमित कई मरीज स्वस्थ हो चुके हैं. उनके रक्तदान से पॉजिटिव मरीजों को बहुत मदद मिल सकती है.अस्पताल प्रबंधन को इसकी तैयारी शुरू करने का प्रस्ताव भी दिया गया है.

उन्होंने बताया कि अस्पताल में प्लाज्मा डोनेट व स्लाइन से संबंधित उपकरणों की जानकारी लेने के बाद तय होगा कि मायागंज अस्पताल में भर्ती मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी से इलाज हो सकता है अथवा नहीं. इसके लिए मायागंज अस्पताल के पैथोलॉजी, मेडिसीन व ब्लड बैंक के इंचार्ज के साथ बैठक कर सहमति बनायी जायेगी.

बता दें कि कोविड मरीजों के स्वस्थ होने तक उनके रक्त में कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी तैयार हो जाता है. इस एंटीबॉडी को दूसरे संक्रमित मरीजों के खून में मिलने के बाद वायरस की कमी होने लगती है.

स्वस्थ हो चुके एक व्यक्ति से 300 एमएल रक्त लेकर इससे 100 एमएल प्लाज्मा तैयार होगा. इससे चार मरीजों को प्लाज्मा स्लाइन किया जा सकता है.

Advertisements