“सात निश्चय योजना” चढ़ रही चढ़ावे की भेंट, 2 गिरफ्तार

पिपरासी/पश्चिम चंपारण (इमरान अजीज) | जिला के पिपरासी प्रखंड के मुडाडीह पंचायत के मुखिया नरसिंह बैठा और मुखिया प्रतिनिधि धर्मेंद्र चौहान को रंगे हाथ घूस लेते गिरफ्तार किया गया. पटना निगरानी टीम के द्वारा सोमवार की संध्या इन दोनों को ₹16000 रिश्वत लेते रंगे हाथ प्रखंड मुख्यालय से गिरफ्तार किया गया है.

बताया जा रहा है कि मुडाडीह पंचायत के वार्ड संख्या पांच की सदस्य किसनावती देवी के पति नंदलाल पडीत से सात निश्चय योजना नल जल कार्यों में ₹16000 कमीशन के रूप में मांगी गई थी. इसकी सूचना वार्ड सदस्य पति ने निगरानी विभाग के टीम को दी. इसके आलोक में प्रखंड मुख्यालय से मुखिया और मुखिया प्रतिनिधि को रंगे हाथ आठ-आठ हजार रुपये लेते समय गिरफ्तार किए गए हैं.

आपको बताएं कि पटना से सीधा गंडक दियारा पहुंची निगरानी की टीम ने जैसे ही इन दोनों घुसखोरो को गिरफ़्तार किया तो प्रखंड अंचल के अधिकारी और कर्मचारी भागने लगे. डीएसपी सर्वेश कुमार सिंह के नेतृत्व में नौ सदस्यीय निगरानी की टीम के इस बड़ी कार्रवाई के बाद इलाक़े के जनप्रतिनिधियों में हड़कंप मचा हुआ है. इससे जल नल योजना में व्यापक पैमाने पर यहां लूट खसोट का उजागर हुआ है जिसके बाद हुक्मरानों तक के होश फाख्ता हो गए हैं
.
सीएम नीतीश कुमार की यह अति-महत्वाकांक्षी योजना ‘सात निश्चय योजना’ आज धरातल पर उतरने से पहले ही चढ़ावे की भेंट चढ़ रही है. जानकारी के मुताबिक ज़िला में 30 से 40% रिश्वत का खेल अधिकारी से लेकर गांव के मुखिया तक खेल रहे हैं. जहां आम जरूरतमंद गरीबों के घर पर नल का जल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है वहीं कई जगहों पर ख़राब काम होने के कारण योजना की हक़ीक़त अधर में लटकी हुई है.

अब देखना यह होगा कि निगरानी विभाग की इस बड़ी कार्रवाई और मुखिया समेत सहयोगी की गिरफ्तारी के बाद ज़िला में सात निश्चय योजना समेत अन्य जन कल्याणकारी योजनाओं में लूट खसोट थमता भी है या नहीं.