गिरफ्तार अभियुक्त की ह्रदयाघात से मौत

फाइल फ़ोटो

मुंगेर (अभिषेक कुमार सिन्हा – The Bihar Now रिपोर्ट) | जिला के तारापुर थानांतर्गत परभरा गांव में हुए दोहरे हत्याकांड का मुख्य अभियुक्त राम सिंह की रविवार को ह्रदयाघात से मौत हो गई. गौरतलब है कि अभियुक्त राम सिंह की गिरफ़्तारी इस दोहरे हत्याकांड के साजिशकर्ता के रूप में शनिवार को हुई थी.

खबरों के मुताबिक अभियुक्त राम सिंह, जिसकी उम्र लगभग 55 वर्ष थी, ने शनिवार को गिरफ्तारी के बाद सीने में दर्द की शिकायत की थी. इसके बाद उसे तुरंत तारापुर अनुमंडल अस्पताल में भर्ती कराया गया. यहां के डॉक्टरों ने उसके बेहतर इलाज के लिए मुंगेर सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया. सदर अस्पताल मुंगेर में रेफर होने के बाद राम सिंह को आईसीयू में भर्ती कराया गया. लगभग 3 घंटे तक आईसीयू में इलाज के बाद चिकित्सकों द्वारा उसे मृत घोषित किया गया.

दंडाधिकारी की मौजूदगी में मृत्यु समीक्षा रिपोर्ट तैयार कर पोस्टमार्टम की प्रक्रिया की गई. सदर अस्पताल के उपाधीक्षक द्वारा मेडिकल बोर्ड का गठन कर मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया गया.

तारापुर थाना कांड संख्या 106/20 के नामजद अभियुक्त राम सिंह के घर पर छापामारी के दौरान एक देसी पिस्तौल, एक देशी रायफल और दस गोलियां बरामद हुई थी. हथियारों की बरामदगी के बाद पुलिस ने गांव के बाहर खेत में बने बोरिंग पर उसके होने की सूचना पर छापामारी की.

पुलिस के आने की भनक लगने पर बोरिंग के पास से रामसिंह भागने लगा. काफी दूर तक पीछा करने के बाद पुलिस ने उसे हिरासत में लिया. इसी दौरान उसने सीने में दर्द की शिकायत की. सीने में दर्द की शिकायत करते ही पुलिस बल द्वारा उसे तत्काल तारापुर अनुमंडल अस्पताल लाया गया, जहां से डॉक्टरों ने उसे सदर अस्पताल मुंगेर रेफर कर दिया था.

प्रथम दृष्टया हृदयाघात से मौत होने की बात सामने आई है. मेडिकल बोर्ड द्वारा पोस्टमार्टम रिपोर्ट सौंपी जाएगी. इस मामले में तारापुर थाने में एक यूडी केस दर्ज किया गया है. थानाध्यक्ष के बयान पर दो मामले दर्ज किए गए हैं. राम सिंह के घर से हथियारों की बरामदगी के मामले में आर्म्स एक्ट का एक मामला दर्ज किया गया है तथा इलाज के क्रम में मुंगेर सदर अस्पताल में राम सिंह की मौत होने पर एक यूडी केस भी दर्ज किया गया है.

बताते चलें कि शनिवार को हमने इस हत्याकांड के बावत खबर पब्लिश की थी जिसमें तीन अभियुक्तों के गिरफ्तार होने की बात कही थी. इसके बाद अन्य दो अभियुक्तों की गिरफ़्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही थी. इसी क्रम में मृतक मुख्य अपराधी राम सिंह को शनिवार को ही गिरफ्तार कर लिया गया जिसके बाद उसकी मौत हो गई.