ये कैसी स्वास्थ्य व्यवस्था, मरीज आ रहे ठेले पर

सासाराम (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार में व्यवस्था कितनी ढीली पड़ गयी है इसका अंदाज़ा हम इस खबर से लगा सकते है कि मरीज ठेले में अस्पताल जाकर अपना इलाज करा रहे हैं. ऐसा इसलिए कि अस्पताल जाने के लिए उन्हें एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं है.

एक तरफ जहाँ स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार द्वारा बड़े-बड़े दावे किये जा रहे हैं, वहीं सासाराम जिले की एक घटना ने इसकी जमीनी हकीकत की पोल खोल कर रख दी है. दरअसल करपुरवा गांव की रहने वाली मरीज़ मनवाती देवी पिछले काफी दिनों से ठेले पर सवार होकर इलाज के लिए अस्पताल आ रही है. उसका पति जगनारायण हर रोज़ ठेला खींचकर उससे अस्पताल तक पहुँचता है और इलाज करा कर फिर घर वापस चला जाता है. लेकिन पूरा अस्पताल इस नज़ारे को देखकर भी चुप रहता है.

कहने को तो सदर अस्पताल में एम्बुलेंस से लेकर तमाम तरह की सुविधाएं हैं तथा सरकार का दावा है कि एक फोन कॉल पर मरीज को एम्बुलेंस सेवा मिलेगी, लेकिन हकीकत इसके ठीक उलट है. मरीज के पति जगनारायण से जब पूछा गया कि आप एम्बुलेंस से अपने मरीज को क्यों नहीं लाते तो वे कहते है कि हम गरीब लोगों का पूछने वाला कौन है.

वही इस घटना के बारे में जब अस्पताल प्रशाशन से पूछा गया तो सदर अस्पताल के सिविल सर्जन ने कहा कि इस संबंध में उन्हें जानकारी नहीं है.