मुख्यमंत्री ने ‘गंगा उद्भव योजना’ के प्रथम फेज का किया स्थल निरीक्षण

पटना (अभिषेक कुमार सिन्हा – the bihar now रिपोर्ट) | मुख्यमंत्री ने पटना जिला के हथीदह में ‘गंगा उद्भव योजना‘ के प्रथम फेज का स्थल निरीक्षण किया. गंगा किनारे बन रहे इंटेक पंप हाउस के निर्माण के संबंध में भी वे अद्यतन स्थिति से अवगत हुये. उन्होंने योजना के निर्माण कार्य के प्रगति की समीक्षा की और समय पर पूरा करने का आदेश दिया.

क्या है ‘गंगा उद्भव योजना’

बता दें कि ‘गंगा उद्भव योजना’ सीएम नीतीश कुमार की एक महत्वाकांक्षी योजना है. इस योजना के अंतर्गत मोकामा के निकट हथीदह से गंगा जल नालंदा, गया, बोधगया, राजगीर एवं नवादा तक पाइप के द्वारा पहुंचाया जाएगा. इस योजना को जल संसाधन विभाग द्वारा बनाया जा रहा है. मोकामा से गंगा नदी का पानी औंटा टाल, मोकामा टाल के रास्ते सरमेरा, बरबीघा, गिरियक होते हुए राजगीर के घोड़ा कटोरा पहुंचाया जायेगा. फिर यहां पर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जायेगा. घोड़ा कटोरा से ट्रीटमेंट किया हुआ गंगा जल पाइप के सहारे उक्त स्थानों पर पहुंचाया जाएगा.

इस योजना के पहले फेज़ का जिसका निर्माण मोकामा के निकट हथीदह मे हो रहा है. तकरीबन 28 सौ करोड़ के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट से गंगा नदी का पवित्र जल हथीदह से राजगीर, बोधगया, नवादा और गया तक पहुंचाया जाएगा. इस प्रोजेक्ट को तीन चरणों में पूरा किया जाना है. प्रथम चरण में ड्रिंकिंग वाटर प्रोजेक्ट के तहत यह काम हो रहा है.

निरीक्षण के क्रम में जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस ने गंगा वाटर लिफ्ट प्रोजेक्ट फेज-1 के स्किमैटिक डायग्राम के माध्यम से मुख्यमंत्री को विस्तृत जानकारी दी. मुख्यमंत्री ने पाइप लाइन रूट की जानकारी लेने के क्रम में जल संसाधन विभाग के अधिकारियों एवं वरिष्ठ अभियंताओं को कई आवश्यक दिशा-निर्देश दिये. मुख्यमंत्री ने गंगा नदी पर राजेंद्र सेतु के सामानांतर बनाये जा रहे सिक्स लेन पुल के निर्माण कार्य की प्रगति की भी जानकारी ली, जिसे 2022 में पूरा किया जाना है.

निरीक्षण के दौरान जल संसाधन मंत्री संजय झा, सूचना एवं जन-संपर्क मंत्री नीरज कुमार, मुख्य सचिव दीपक कुमार, जल संसाधन सचिव संजीव हंस, पटना प्रमंडल के आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल, पटना रेंज के पुलिस महानिरीक्षक संजय सिंह, पटना डीएम कुमार रवि, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, पटना के एसएसपी उपेन्द्र शर्मा सहित जल संसाधन विभाग के कई वरीय पदाधिकारी एवं अभियंतागण उपस्थित थे.

स्थल निरीक्षण के बाद मुख्यमंत्री ने गंगा उद्वह योजनान्तर्गत राजगीर एवं गया तक पाइपलाइन के रूट एवं जलाशय स्थल का हवाई सर्वेक्षण भी किया. उन्होंने अधिकारियों को इस मामले में आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिये.

इसके पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आगमन को लेकर सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की गई थी. हर तरफ भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई थी. इधर, इस पूरे समारोह से प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारों को दूर रखा गया.