बिहार के नाम नीतीश का होली बधाई संदेश

 पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट)- होली का त्यौहार एकता और भाईचारे के रंगों  में सराबोर होने के लिए जाना जाता है. बिहार में भी मिथिला, भोजपुर एवं मगध प्रदेश में होली के अलग-अलग अंदाज देखने को मिलते हैं. बिहार में होली के विभिन्न प्रचलन प्रचलित हैं जैसे   पटना में कुर्ताफाड़ होली, मगध क्षेत्र में बुढ़वा मंगल होली, और समस्तीपुर में छाता पटोरी होली मनाने के लिए प्रसिद्ध हैं. सियासी गलियारे की बात करे तो बिहार के राजद सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की होली कभी मीडिया की सुर्ख़ियों में रहा करती थी. बिहार सरकार के द्वारा कोरोना वायरस को लेकर एडवाईजरी जारी होने के बाद इस बार होली का रंग थोड़ा फीका है. कोरोना को लेकर जदयू एवं भाजपा के कई मंत्री, विधायक और नेता होली नहीं मना रहे हैं. लेकिन सभी राजनीतिक दलों के नेताओं और मंत्रियों के द्वारा जनता को होली की बधाई और शुभकामनाएं देने का सिलिसिला लगातार जारी है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने होली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि “होली का यह पवित्र त्योहार राज्यवासियों की जिंदगी में खुशियों का नया रंग लेकर आएगा. यह पवित्र त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है. होली की विशेषता यह है कि बिना किसी भेदभाव के लोग  एक दूसरे के प्रति प्रेम -सद्भाव रखते हैं. होली सामाजिक समरसता का भी प्रतीक है”. मुख्यमंत्री ने सभी से अपील करते हुए कहा कि “सभी लोग होली के त्योहार को पारस्परिक प्रेम, आपसी भाईचारे एवं सामाजिक सद्भाव के साथ मनाएं”.

प्रदेश के राज्यपाल फागू चौहान ने होली के बधाई संदेश में कहा कि “उल्लास और आनंद के इस त्योहार में हम पारस्परिक मतभेदों को भूलकर प्रेम एवं भाईचारा के रंगों में रंग जाते हैं.  भारतीय लोक संस्कृति से जुड़े इस अनूठे त्योहार से हमारी सामाजिक समरसता तथा राष्ट्रीय एकता की भावना बलवती होती है”. आगे उन्होंने कहा कि “सभी बिहारवासी इस पावन पर्व को खुशी और उमंग के साथ मनाएं ताकि देश और समाज में सुख-समृद्धि रहे एवं हम तेजी से प्रगति-पथ पर आगे बढ़ते रहें”.

राष्ट्रीय जनता दल के नेताओं ने भी होली पर लोगों को बधाई संदेश दिए. पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव व तेजप्रताप यादव ने बिहार की जनता को बधाई संदेश देते हुए कहा कि “इस त्योहार का संदेश है कि अपने अंदर छुपी बुराइयों को दहन करें. लोग इस पर्व को हर्ष और उल्लास के साथ मनाएं”.