क्या आनंद मोहन रिहा होंगे ? नीतीश के बयान से बढ़ी संभावना

पटना (TBN रिपोर्टर) | नीतीश कुमार के एक बयान के बाद गोपालगंज के तत्कालीन डीएम जी कृष्णैया के हत्या मामले में उम्रकैद की सजा भुगत रहे आनंद मोहन के रिहाई की संभावनाएं बढ़ गई हैं. दरअसल नीतीश सोमवार को स्थानीय मिलर हाई स्कूल मैदान पर महाराणा प्रताप स्मृति समारोह के अवसर पर एक सभा को संबोधित कर रहे थे.

नीतीश महाराणा प्रताप के चित्र पर पुष्प अर्पित करने के बाद सभा में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने इस समारोह के आयोजन के लिए आयोजकों को बधाई दी. उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप की पुण्यतिथि 19 जनवरी को थी लेकिन जल-जीवन-हरियाली अभियान को लेकर आयोजित मानव श्रृंखला की वजह से इसका आयोजन सोमवार 20 जनवरी को किया गया. नीतीश ने कहा कि महाराणा प्रताप की प्रतिमा लगाने के लिए जो मांग की गई है उस पर कार्य किया जाएगा.
इस कार्यक्रम के दौरान बिहार के विभिन्न जिलों से आए आनंद मोहन के समर्थक लगातार नारेबाजी कर रहे थे. यहाँ तक कि वे नीतीश कुमार के संबोधन के दौरान भी ‘आनंद मोहन को रिहा करो’ की मांग कर रहे थे. आनंद मोहन के समर्थकों के इस मांग पर मुख्यमंत्री ने नारेबाजी कर रहे लोगों से कहा कि आप लोगो को महाराणा प्रताप से लगाव नही है क्या? इसके बाद नारेबाजी कर रहे लोग शांत हुए. इसी वक्त उन्होंने आनंद मोहन के समर्थकों से यह भी कह डाला कि जितनी चिंता उन लोगों को है, उससे कम चिंता उनको (नीतीश को) नहीं है. इशारों में ही नीतीश ने कहा कि उनसे जो भी संभव होगा कोशिश कर रहे हैं, लेकिन आप जानते हैं कि हर चीज पर अपना अधिकार नहीं होता. फिर भी चूंकि उनसे (आनंद मोहन से) उनसे (नीतीश से) भी लगाव है और इसलिए चिंता करने की जरूरत नहीं है.