पटना को डूबने से बचाने के लिए हाई लेवल मीटिंग

पटना (TBN रिपोर्ट) | बिहार में पिछले साल 2019 में हुई भयंकर बरसात को लोग आज भी नहीं भूल पाए हैं. राजधानी पटना में हुई मूसलाधार बारिश ने कई इलाकों को समंदर में तब्दील कर दिया था. राजधानी के कई इलाके बाढ़ ग्रसित क्षेत्र की तरह हो चुके थे. यहां तक उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का पैतृक आवास तक डूब चुका था.

इसके बचाव के लिए तब सरकार ने आनन-फानन में पटना को भविष्य में जलभराव की समस्या से बचाने के लिए पूरा ब्लूप्रिंट तैयार किया गया.  लगभग एक साल के बाद अब बिहार सरकार पटना को डूबने से बचाने के लिए 167 करोड़ रुपए खर्च करने जा रही है.

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की अध्यक्षता में आज पटना जल जमाव समस्या को लेकर हाई लेवल बैठक की गयी.  इस बैठक में बिहार के नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा, वुडको के एमडी, नगर निगम की मेयर, नगर निगय आयुक्त और अधिकारी समेत संबधित विभाग के अधिकारी शामिल हुए तथा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाली इस बैठक में पटना के संप हाउस की जानकारी, नाला उड़ाही की समीक्षा के साथ संप हाउस में नये पंप लगाने को लेकर भी चर्चा की गयी.

बैठक के दौरान उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि सरकार ने 167.79 करोड़ की लागत से पम्पिंग स्टेशनों के क्षमतावर्घन के लिए 265 वर्टिकल,सबमर्सिबल, सीएफ पम्प, डीजल जेनरेटर सेट, ट्राॅली माउंटेड पम्प,डीजल पम्प आदि की खरीद का आदेश दिया है. पहली बार 3 साल के लिए 39 ड्रेनेज पम्पिंग स्टेशनों की रखरखाव, संचालन व मरम्मति की जिम्मेवारी विभिन्न एजेंसियों को दी गई है.

सुशील कुमार मोदी ने आगे कहा कि जल जमाव से निबटने के लिए 10 करोड़ की लागत से किए जा रहे 27 अस्थायी नए पम्पिंग स्टेशनों का निर्माण कार्य 15 जून तक पूरा करने, सभी शेष बचे बड़े व खुले नालों, मेनहाॅल, कैचपीट आदि की उड़ाई 31 मई तक व पम्पिंग स्टेशनों का संरचनात्मक निर्माण व ऊंचीकरण का काम 30 जून के पूर्व पूरा करने का निर्देश दिया गया है.

इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए अधिकारियों ने बताया कि निगम क्षेत्र के करीब 8 लाख फीट खुले नाले, 24,349 मेनहाॅल तथा 18,444 कैचपीट की उड़ाही की जा चुकी हैं. सभी 39 डीपीएस के सिविल स्ट्रक्चर की मरम्मति और पम्पहाउस में पानी लगने से रोकने के लिए रैम्प आदि का निर्माण कार्य लाॅकडाउन के बावजूद 35 से 76 प्रतिशत तक पूरा कर लिया गया है. बाकी का काम अगले महीने के अंत तक पूरा कर लिया जायेगा.