होली पर शराब को लेकर सभी जिलों में हाई अलर्ट

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट)- होली का त्यौहार रंग बिरंगे रंगों और गुजियों की मिठास के साथ हर्षोल्लाष से मनाने के लिए जाना जाता था. धीरे धीरे भांग का नशा और फिर अब शराब का चलन इस त्यौहार की प्रमुखता बन गए हैं. आम दिनों की तुलना में होली के त्यौहार पर शराब की खपत कुछ ज्यादा ही होती हैं. बिहार में शराबबंदी कानून के लागू हो जाने से शराब के तस्करों पर नज़र रखने और सख्ती से निपटने के लिए मुख्य सचिवालय में होली को लेकर एक महत्वपूर्ण बैठक की गयी. बैठक में होली पर शराब के चलन के खिलाफ सतर्कता बरतने के दिशा निर्देश दिए गए.

मुख्य सचिव दीपक कुमार ने मुख्य सचिवालय में गृह सचिव और पुलिस विभाग के उच्च अधिकारियों के साथ एक बैठक की. मुख्य सचिव ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए  सभी जिलों के डीएम और एसपी को होली के त्यौहार पर शराब को लेकर अलर्ट रहने के निर्देश दिए . मुख्य सचिवालय में हुई इस बैठक में मुख्य सचिव दीपक कुमार के साथ गृह सचिव आमिर सुबहानी, एडीजी हेड क्वार्टर जितेंद्र कुमार, एडीजी स्पेशल ब्रांच धर्मेंद्र सिंह गंगवार के अलावा पटना के डीएम और एसएसपी जी भी शामिल हुए.

ज्ञात हो पिछले साल होली और सरस्वती पूजा के दौरान कई जगह घटनाएं हो गयी थीं. मुख्य सचिव दीपक कुमार ने इस तरह की जगहों को चिन्हित करते हुए उन सभी स्थानों को संवेदनशील जगह की श्रेणी में रखा है. सभी संवेदनशील जगहों के जिलों के डीएम और एसपी को सतर्कता बरतने के विशेष निर्देश दिए गए हैं. बैठक में मुख्य सचिव ने शराब को लेकर विशेष अभियान चलाने के लिए चीफ सेक्रेटरी को निर्देश भी दिया है. बिहार में शराबबंदी होने के बाद भी होली पर शराब की जमकर खपत होती है. मुख्य सचिव के द्वारा पुलिस प्रशासन को शराब के तस्करों से निपटने के लिए सभी जिलों में सर्च ऑपरेशन अभियान चलाने के लिए निर्देश जारी कर दिए गए हैं. मुख्य सचिव के अनुसार होली के त्यौहार को शराब मुक्त धूमधाम से मनाने के लिए हर संभव प्रयास किये जायेंगे.