बाढ़ नगर परिषद में आंतरिक कलह, मुख्य पार्षद ने कार्यपालक पदाधिकारी पर लगाए आरोप

बाढ़ (अभिषेक कु सिन्हा – The Bihar Now रिपोर्ट)| गत दिनों बाढ़ नगर परिषद के सभागार में एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया किया गया. इस वार्ता को बाढ़ नगर परिषद के अध्यक्ष राजीव कुमार ‘चुन्ना’ ने आयोजित किया था.

इस प्रेस वार्ता में राजीव कुमार ‘चुन्ना’, मुख्य पार्षद ने आरोप लगाया कि कार्यपालक पदाधिकारी, बाढ़ नगर परिषद अपने पद का दुरुपयोग कर विपक्ष की भूमिका निभा रहे हैं. उन्होंने कहा कि सशक्त स्थाई समिति की बैठक चार बार बुलाई गई, लेकिन उन्होंने किसी भी बैठक में भाग नहीं लिया, जबकि बैठक बुलाने की जिम्मेवारी उनकी है.

‘चुन्ना’ ने आगे कहा कि जब से उन्होंने मुख्य पार्षद का पदभार ग्रहण किया, कार्यपालक अधिकारी वार्ड पार्षदों को प्रलोभन देकर उनके विरोध में गोलबंद कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि स्थाई समिति के बैठक को भी उन्होंने आज तक संचिका प्रस्तुत नहीं किया है. कर्मचारियों को चिन्हित कर उनके खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही की जा रही है. 13 सफाई कर्मियों के मानदेय भुगतान नहीं किया गया है.

उन्होंने आरोप लगाया कि कार्यपालक पदाधिकारी, बाढ़ नगर परिषद द्वारा टीवी लगाने का घोटाला किया गया है तथा योजनाओं में नियमों की अनदेखी की जा रही है. मुख्यमंत्री के जनसंवाद कार्यक्रम में भी घपला किया गया है. प्रत्येक वार्ड में टीवी लगाने की योजना थी, लेकिन महज 14 वार्डों में ही टीवी लगाई गई. इस कार्यक्रम में 4,72,000 रुपए का घपला किया गया.

उन्होंने पुलिस से कार्यपालक पदाधिकारी और दो अन्य लोगों के मोबाइल कॉल का सीडीआर निकालने की मांग की है. उन्होंने आरोप लगाया कि विकास योजना से संबंधित संचिकाओं को लंबे समय तक कार्यपालक पदाधिकारी अपने पास रखते हैं. मुख्य पार्षद बताया कि जांच के वास्ते इसकी जानकारी नगर विकास निगम एवं मंत्री एवं आला अधिकारी को को भे दिया गया है.

दूसरी ओर इस बावत कार्यपालक पदाधिकारी ने पूछने पर बताया कि उनके ऊपर लगाये गए सारे आरोप बेबुनियाद एवं दुर्भावना से प्रेरित हैं. उन्होंने कहा कि नगर परिषद के मुख्य पार्षद जानबूझकर उन्हें प्रताड़ित कर रहे हैं ताकि योजना से संबंधित कोई भी संचिका पर वे असहमति नहीं कर सके.