डिजिटल भिखारी जो QR Code से लेता है डिजिटल भीख

बेतिया (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बेतिया रेलवे स्टेशन और बस स्टैन्ड पर एक डिजिटल भिखारी है जो भीख में छुट्टे पैसे न लेकर, डिजिटल भीख (Beggar in Bettiah takes digital begging from QR code) लेता है. इसके लिए उसने बैंक अकाउंट खोल रखा है जिससे जुड़ा QR Code भी उसके पास है. इसी code के द्वारा वह भीख के पैसे लेता है. इससे आजकल उसकी चारों ओर चर्चा हो रही है

राजू नामक यह भिखमंगा बचपन से ही स्टेशन पर रहता है और भीख मांगकर अपना गुजर-बसर करता है. राजू के अनुसार, कई बार लोग छुट्टे पैसे न रहने का बहन देकर भीख नहीं देते थे. इस कारण उसने बैंक में अपना अकाउंट खुलवा लिया. अब वह लोगों से छुट्टे पैसे नहीं लेता बल्कि फोन-पे पर QR CODE स्कैन कर भीख के पैसे देने को कहता है.

बेतिया रेलवे स्टेशन पर राजू को गले में ई-वॉलेट का QR CODE टांगे देखा जा सकता है. मंदबुद्धि होने के कारण बसवरिया वार्ड नंबर-30 के रहने वाले प्रभुनाथ प्रसाद का 40 वर्षीय बेटा राजू प्रसाद भीख मांगने का काम करता है.

यह भी पढ़ें| बिहार: कोरोना की नई गाइडलाइंस जारी, खुलेंगे पार्क, धार्मिक स्थल, शैक्षणिक संस्थान, मॉल

राजू लालू यादव को अपना पापा और खुद को नरेंद्र मोदी का भक्त बोलता है. वह बेतिया रेलवे स्टेशन और बस स्टैन्ड पर आते-जाते यात्रियों से भीख मांगता है. राजू ने बताया कि कई बार लोग यह कह कर भीख देने से इनकार कर देते हैं कि उनके पास छुट्टे पैसे नहीं हैं. कई यात्रियों ने राजू से यह कहा कि ई-वॉलेट के जमाने में अब वे पैसे लेकर नहीं चलते हैं.

राजू के अनुसार, लोगों द्वारा भीख नहीं दिए जाने से उसे दिक्कत होने लगी. फिर बड़ी दिक्कतों से उसने बेतिया के एसबीआई की मुख्य शाखा में खाता खुलवाया. साथ ही उसने अपना ई-वॉलेट भी बनवा लिया. अब राजू गूगल-पे व फोन-पे आदि के QR CODE के जरिए भीख मांगता है.