धान का बिचड़ा बर्बाद करने से रोकने पर किया मारपीट, मां बेटी घायल

मशरक (संतोष सिंह) | मशरक थाना क्षेत्र के पूरब टोला गांव में खेत में गिराये गये धान के बीज के नुक़सान को लेकर हुए विवाद में जमकर मारपीट में मां बेटी गंभीर रूप से घायल हो गई जिन्हें इलाज के लिए स्थानीय पीएचसी में भर्ती कराया गया. घायलों में मशरक पूरब टोला गांव निवासी हासिम साई के 40 वर्षीय पत्नी दरूदल खातुन और 16 वर्षीय पुत्री नजराना खातून के रूप में हुई.

मामले में पीड़ित महिला ने बताया कि उसके खेत में कुछ दिनों पहले ही धान का बीज गिराया गया है. उसके खेत को पड़ोसी द्वारा नुकसान किया जा रहा था. इसका विरोध करने पर उनके साथ मारपीट की गई जिसमें वो और उसकी बेटी घायल हो गई. इलाज के बाद घायल महिला ने इस बावत थाना में पुलिस को आवेदन दिया.

थाना से घर पहुंचने पर उस दबंग पड़ोसी द्वारा फिर से दबंगई दिखाते हुए महिला के साथ मारपीट की गई. इतना ही नहीं, बल्कि धमकी भी दी गई कि यदि वह फिर से पुलिस के पास गयी तो जान से हाथ धोना पड़ेगा.

इस मामले में पीड़िता ने मशरक थाना में आवेदन दिया जिसमें दुखा साई, मनौउर साईं समेत तीन को आरोपित किया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

बंदर ने महिला को किया घायल

वही मशरक थाना क्षेत्र के हसाफीर गांव में दरवाजे पर चापाकल से पानी लेने गयी वृद्ध महिला को अचानक बंदर ने आकर धक्का देकर काटकर जख्मी कर दिया. परिजनों द्वारा जख्मी हालत में मशरक पीएचसी में भर्ती कराया गया. घायल वृद्ध महिला गगनदेव राय की 70वर्षीय पत्नी सुगापति देवी के रूप में हुई. मामले में गगनदेव राय ने बताया कि गांव में बंदरों का आतंक बढ़ गया है, जिससे चापाकल पर पानी लेने के दौरान पहले बंदर ने धक्का दे दिया, फिर काट कर घायल कर दिया.