डॉ प्रेम कुमार की गिरफ्तारी और उम्मीदवारी रद्द करने की उठी मांग

गया (TBN – The Bihar Now डेस्क) | चुनाव मैदान में उतरते ही प्रत्याशियों के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. लोग गड़े मुर्दे उखाड़ने लगे हैं. यह मामला गया विस क्षेत्र का है.

गया में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और उम्मीदवार डॉ प्रेम कुमार के खिलाफ पूर्व से निर्गत एक वॉरन्ट के मामले में निर्वाचन पदाधिकारी को आवेदन देकर उनकी गिरफ्तारी और उम्मीदवारी रद्द करने की मांग की गई है. यह मांग गया के कांग्रेस सहित चार उम्मीदवारों ने की है.

मामला वर्ष 2014 में दर्ज

शुक्रवार को गया शहर विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस उम्मीदवार अखौरी ओंकारनाथ उर्फ़ मोहन श्रीवास्तव ने एक बड़ा आरोप बीजेपी उम्मीदवार डॉ प्रेम कुमार पर लगाया. मोहन श्रीवास्तव ने जानकारी दी है कि गया रेल थाना में वर्ष 2014 में दर्ज एक मामले में कोर्ट द्वारा 14 नवम्बर 2019 को ही वारंट जारी किया गया था जिसमे प्रेम कुमार ने न तो जमानत ली है औ न ही उनकी गिरफ्तारी हुई है. और तो और अपने नामांकन पत्र में दी जानेवाली सूचना में भी उन्होंने इस तथ्य को छिपाया है.

मोहन श्रीवास्तव सहित गया शहर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे तीन अन्य उम्मीदवारों ने भी गया के निर्वाचन पदाधिकारी को आवेदन देकर प्रेम कुमार की गिरफ्तारी और उनका नामांकन रद्द करने की मांग की है. उनके द्वारा वारंट की कॉपी भी उपलब्ध कराई गई है.

इस आरोप पर प्रतिक्रिया देने के लिये डॉ प्रेम कुमार शहर में मौजूद नही है. उनके सहयोगी और अधिवक्ता मुकेश कुमार ने बताया कि नामांकन पत्र में उनके द्वारा इस मामले की जिक्र की गयी है. परंतु उन्हें यह जानकारी नही है कि कोर्ट द्वारा वारंट भी जारी किया गया है.

इस मामले पर बीजेपी ने अनभिज्ञता जतायी है.