दर्जनभर शिकारियों ने किया वन कर्मियों पर हमला

darjanabhar shikaariyon ne kiya van karmiyon par hamala

पश्चिम चंपारण (TBN रिपोर्ट) | बिहार में लॉकडाउन के दौरान पुलिस प्रशासन की इतनी चौकसी के बाद भी अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि अपराधी बेखौफ होकर सरकारी कर्मियों पर भी हमले कर रहे हैं. अपराध की ऐसी ही एक ताजा घटना बिहार के पश्चिम चंपारण जिले से सामने आ रही है.

घटना के अनुसार भारत नेपाल सीमा से सटे वाल्मीकि टाइगर रिजर्व के गोनौली वन क्षेत्र में शिकारियों ने कल गश्त कर रहे दो वन कर्मियों पर हमला कर उन्हें गंभीर रूप से जख्मी कर दिया. जिसके बाद जख्मी दोनों वन कर्मियों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहाँ उनका इलाज चल रहा है.

इस घटना के बारे में जानकारी देते हुए वाल्मीकि टाइगर रिजर्व के वन संरक्षक सह क्षेत्र निदेशक हेमकांत राय ने बताया कि टाइगर रिजर्व के गोनौली वन क्षेत्र के अंतर्गत त्रिवेणी कक्ष संख्या 18 के घने जंगल में तैनात टाइगर टेकर धनराज मुसहर और मनोज धांगर नियमित गश्त पर निकले थे.

गश्त के दौरान शिकारियों द्वारा वन्य प्राणियों को पकड़ने के लिए बिछाए गए जाल पर उनकी नजर पड़ी. इसके बाद दोनों टाइगर टेकर जाल को अपने कब्जे में लेकर लपेट रहे थे कि अचानक से लाठी-डंडे से लैस करीब डेढ़ दर्जन की संख्या में शिकारियों का झुंड वहां आ पहुंचा और इन दोनों टाइगर टेकर के ऊपर हमला कर दिया.

वन संरक्षक सह क्षेत्र निदेशक हेमकांत राय ने बताया कि लाठी डंडे से दोनों वन कर्मियों को घायल करने के पश्चात शिकारी जाल लेकर भाग निकले. टाइगर रिजर्व के क्षेत्र निदेशक ने बताया कि दोनों जख्मी वन कर्मियों को इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल लाया गया है.

हमला करने वाले शिकारियों में 5 लोगों की पहचान कर ली गयी है और ये जिले के नौरंगिया थाना क्षेत्र के जीतपुर गांव के रहने वाले हैं. हमले की इस वारदात में वाइल्डलाइफ एक्ट के तहत पांच नामजद एवं आधा दर्जन अज्ञात शिकारियों के विरुद्ध नौरंगिया थाना में मामला दर्ज कराया गया है.
फिलहाल पुलिस हमलावरों की तलाश में जुटी है.