मुखिया भवन बना आइसोलेशन सेंटर

सिवान (TBN रिपोर्टर) | कोरोना वायरस के संकट से पैदा हुई स्थिति की सबसे बड़ी मार दिहाड़ी मज़दूरों पर पड़ी है. इनके पास अपना और परिवार का पेट भरने के लिए पैसे भी नही हैं. नतीजा इनका पलायन हो रहा है. ये तस्वीर सिवान जिले की है. एनएच 85 के किनारे चांप पंचायत के तहत इस भवन में सामूहिक भोजन की व्यवस्था की गई है. इस व्यवस्था की बागडोर हुसैनगंज प्रखंड प्रमुख राजा राम साह ने सम्भाल रखी है. इस भवन में स्नानादि की भी सुविधा है और दोनों समय भोजन की निःशुल्क व्यवस्था है. दिन में चावल-दाल-सब्जी तो रात में पूरी-सब्जी की व्यवस्था है.

सरकारी अधिकारी और थानेदार नित्यप्रति यहां आकर व्यवस्था की जानकारी लेते हैं और आवश्यक दिशा निर्देश देते हैं जिसका अनुपालन समुचित तरीके से प्रखंड प्रमुख की देख-रेख में कराया जा रहा है. प्रखण्ड प्रमुख राजा राम साह ने The Bihar Now को बताया कि यहां भोजन पर कोई प्रतिबन्ध नही है. जो भी यहां आएंगे उन्हें भोजन मिलेगा. दो दिन पहले कुछ 150 लोगों का जत्था किशनगंज जा रहा था, उन्हें भी भोजन कराया गया. उद्देश्य यही है कि लॉक डाउन की स्थिति में जिनके पास पैसे नही हैं, उन्हें भूखा न रहना पड़े. दिन के भोजन का सिलसिला अपराह्न 3 – 4 बजे तक चलता है जबकि शाम 7 बजे से रात का भोजन शुरू हो जाता है.
यह भवन हुसैनगंज प्रखंड के निर्मल ग्राम पंचायत चांप की मुखिया श्रीमती अंजिता देवी का है जिन्होंने इसे आइसोलेशन वार्ड के रूप में इस्तेमाल करने के लिए दे दिया है. पहले सरकारी स्कूल को इसके लिए चयनित किया गया था लेकिन हवादार और खुला न होने की वजह से इस भवन को आइसोलेशन वार्ड भी बनाया गया है.

Advertisements